Advertisement

सुवेंदु अधिकारी ने सीएम ममता पर लगाया बड़ा आरोप, कहा नूंह हिंसा में बंगाल के लोग गए

Share
Advertisement

बंगाल विधानसभा के नेता प्रतिपक्ष सुवेंदु अधिकारी ने मुख्यमंत्री ममता बनर्जी पर बड़ा आरोप लगाया है। सुवेंदु ने ममता बनर्जी को सांप्रदायिक बताते हुए कहा कि नूंह हिंसा में बंगाल के लोग गए हैं। सुवेंदु अधिकारी ने कहा कि ममता बनर्जी के गुंडों ने रामनवमी जुलूस के दौरान दंगा किया। सीएम ममता तुष्टिकरण की राजनीति कर रही हैं। बीजेपी नेता ने कहा कि उनके गुंडों ने जय श्रीराम के नारे लगाने वाले सनातनी पर हमला किया। ममता बनर्जी की तुष्टिकरण की राजनीति बंगाल और देश के लिए खराब है।

Advertisement

बीजेपी नेता सुवेंदु अधिकारी ने कहा कि ये रोहिंग्या को पूरे देश में फैला रहे हैं। बीजेपी नेता ने कहा कि दिल्ली के जहांगीरपुरी में जो दंगा हुआ उसमें रोहिंग्या पकड़े गए, वो बंगाल से गए थे। सुवेंदु अधिकारी ने आरोप लगाया कि अभी जो हरियाणा के नूंह में हो रहा है, वहां भी यहीं से ही लोग गए होंगे। उन्होंने कहा कि ममता बनर्जी ने बंगाल को एटी-नेशनल फोर्स का हब बना दिया है, इसीलिए बीएसएफ को राज्य सरकार ने 72 जगहों पर पोस्ट के लिए स्थान नहीं दिया।

बता दें कि हरियाणा के नूंह जिले में 31 जुलाई को एक धार्मिक यात्रा के दौरान हिंसा हुई थी, जिसमें छह लोगों की मौत हो गई। वहीं, पश्चिम बंगाल में 30 मार्च को रामनवमी के मौके पर हिंसा हुई थी। इस दौरान हावड़ा में रामनवमी जुलूस के दौरान पथराव किया गया और वाहनों में आग भी लगाई गई थी। इसके बाद 2 अप्रैल की शाम को भी हुगली जिले में रामनवमी की शोभायात्रा के दौरान दो समूहों में हिंसक झड़प हुई थी।

बंगाल हिंसा को लेकर बीजेपी और टीएमसी एक-दूसरे पर आरोप लगाते रहते हैं। हिंसा के बाद मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने बीजेपी पर आरोप लगाते हुए कहा था कि वे सांप्रदायिक दंगों को अंजाम देने के लिए बाहर से गुंडे बुलाते हैं। वहीं, टीएमसी ने रविवार को भी पूरे पश्चिम बंगाल में केंद्र सरकार के खिलाफ प्रदर्शन किया। पश्चिम बंगाल के मंत्री फिरहाद हकीम ने कहा कि केंद्र सरकार की ओर से राज्य का 1,17,000 करोड़ रुपये का बकाया नहीं दिए जाने और हरियाणा व मणिपुर हिंसा के विरोध में धरने पर बैठे हैं।

ये भी पढ़ें: आम आदमी पार्टी ने नूंह हिंसा पर उठाए सवाल, क्या हिंसा के पीछे मुख्यमंत्री का हाथ?

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *