पुण्यतिथि: जानिए लाल बहादूर शास्त्री के किस्से

पुण्यतिथि

देश के दूसरे प्रधानमंत्री लाल बहादुर शास्त्री का आज यानि 11 जनवरी को पुण्यतिथि है। लाल बहादुर शास्त्री को सादगी की मुर्ति कहा जाता था। उनकी सादगी के कई किस्सों को आज भी नेताओं को आईना दिखाने के लिए प्रयोग किया जाता है। आज आपको उनके किस्से बताएंगे जिसने लाल बहादुर शास्त्री को सबसे सादी छवि वाला प्रधानमंत्री बनाया।

महंगी साड़ी खरीदने से किया था इंकार

एक बार शास्त्री जी प्रधानमंत्री रहते हुए परिवार की कई महिलाओं और अपनी पत्नी के साथ साड़ी खरीदने गए। परिवार के साथ जब वे साड़ी देख रहे थे तब फैक्ट्री के मालिक ने उन्हें महंगी साड़ी दिखाई। महंगी साड़ियों को देख शास्त्री जी ने कहा कि मेरे पास इतने पैसे नहीं हैं। इसके बाद फैक्ट्री मालिक ने वो साड़ियां फ्री में देने की पेशकश की, जिसपर शास्त्री जी उखड़ गए और अपने बजट के हिसाब से साड़ी खरीद कर घर लौटे।

घर से हटवाया था सरकारी कूलर

शास्त्री जी की सादगी का एक किस्सा है कि एक बार उनके घर पर कूलर लगवाया गया। ये कूलर सरकार की तरफ से था। कूलर लगने से चिंतित हो कर शास्त्री जी ने अपने परिवार से कहा,  ‘इलाहाबाद के पुश्तैनी घर में कूलर नहीं है। कभी धूप में निकलना पड़ सकता है। ऐसे आदतें बिगड़ जाएंगी।’ इसके बाद उन्होंने सरकारी विभाग को फोन कर कूलर हटवा दिया।

पुराने कुर्ता से बनाते थे रुमाल

लाल बहादुर शास्त्री अपने पुराने कुर्ते से अपने लिए रुमाल बनवाते थे और उसका प्रयोग करते थे।

गर्म कपड़े न होने की वजह से पत्नी को नहीं ले गए थे साथ

कहते हैं जब शास्त्री जी ताशकंद गये थे तो अपनी पत्नी को साथ नहीं ले गए थे। क्योंकि उनकी पत्नी के पास गर्म कपड़े नही थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *