Advertisement

‘अच्छा सिला दिया हम लोगों के प्यार का’, BJP नेता शाहनवाज़ हुसैन ने नीतीश कुमार पर कुछ यूं कसा तंज

Bihar Politics
Share
Advertisement

Bihar Politics: नीतीश कुमार ने 2013 की तरह 2022 में एक बार फिर से बीजेपी का साथ छोड़ कर अपने धुर विरोधी लालू यादव का दामन थाम लिया है। बीते मंगलवार को BJP और JDU का रास्ता अलग-अलग हो गया है। वहीं आज यानि बुधवार को बिहार के पटना में भारतीय जनता पार्टी के नेताओं ने पार्टी से गठबंधन तोड़ने के बाद ‘नीतीश कुमार मुर्दाबाद’ के नारे लगाए। अब BJP द्वारा नीतीश कुमार के खिलाफ प्रदर्शन में भाजपा नेता शाहनवाज़ हुसैन (Shahnawaz Hussain) ने नीतीश कुमार (Nitish Kumar) पर तंज कसते हुए कहा कि नीतीश जी के साथी अच्छे नहीं हैं।…’अच्छा सिला दिया हम लोगों के प्यार का’ ये तो बड़ी गलत बात है। जब भी मिले कभी आभास नहीं हुआ कि वे छोड़ कर जाएंगे। लोकसभा के चुनाव में 40 सीट भाजपा जीतेगी।

Advertisement

‘अच्छा सिला दिया हम लोगों के प्यार का’

वहीं बिहार के पूर्व उपमुख्यमंत्री और भाजपा नेता तारकिशोर प्रसाद ने कहा कि 2017 में नीतीश RJD से अलग हुए तो उन्होंने कहा कि RJD हमारे दल को तोड़ रही है, फिर भ्रष्टाचार के मुद्दे पर वे अलग हुए। कल भी यही कहा कि भाजपा JDU को तोड़ रही है। इससे समझ आता है कि ये सोची समझी साजिश है। साथ ही RJD के राज्यसभा सांसद मनोज झा ने कहा कि ये सिर्फ सरकार शपथ नहीं लेने जा रही है बल्कि 2017 से लेकर 2020 तक के जनादेश की घर वापसी हो रही है। ये बहुत महत्वपूर्ण है ऐसे दौर में जब मौजूदा भाजपा ने ये तय कर लिया है कि लोकतांत्रिक मूल्यों को क्षत-विक्षत करना है। बिहार ने एक संदेश दिया है।

Read Also:- Bihar: 8वीं बार सीएम बनेंगे नीतीश कुमार, डिप्टी CM होंगे तेजस्वी, आज होगा शपथग्रहण समारोह

आज 8वीं बार सीएम बनेंगे नीतीश कुमार

आज सीएम और डिप्टी सीएम का शपथग्रहण समारोह दोपहर दो बजे होगा। बता दें कि नीतीश कुमार ने मंगलवार को राज्यपाल को 164 विधायकों के समर्थन का पत्र सौंपा है। इसके बाद नीतीश ने कहा कि हम 7 पार्टियां मिलकर महागठबंधन में आगे काम करेंगे। नीतीश की अगुवाई में बनने वाली महागठबंधन की नई सरकार में जेडीयू, आरजेडी, कांग्रेस, सीपीआई (ML),सीपीएम, सीपीआई और जीतनराम मांझी की पार्टी HAM शामिल हैं। इसके अलावा एक निर्दलीय विधायक का भी समर्थन है। इस तरह नीतीश कुमार को भले ही सात पार्टियों का समर्थन है, लेकिन सरकार में सभी हिस्सेदारी नहीं ले रही हैं। 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *