मणिपुर में घटनास्थल के पास एक और लैंडस्लाइड, 18 जवानों समेत 24 लोगों की मौत

इंफाल: मणिपुर में 30 जून को नोनी जिले में रेलवे कंस्ट्रक्शन साइट पर हुए भूस्खलन में मरने वालों की संख्या शनिवार को बढ़कर 24 पहुंच गई है। इस घटना में टेरिटोरियल आर्मी के 18 जवान शहीद हो गए है। तो वहीं खबरों के अनुसार शामिल गुवाहाटी में सैन्य प्रवक्ता के हवाले से बताया कि 38 लोग अब भी लापता है। हालांकि पिछले 2 दिनों से तेजी से राहत और बचाव का कार्य तेजी से चलाया जा रहा है। सेना और स्थानिय पुलिस फोर्स की मदद से तेजी से रेस्कयू अभियान चलाया जा रहा है।

बता दें सेना की असम राइफल्स, टेरिटोरियल आर्मी के अलावा NDRF (एनडीआरएफ), SDRF (एसडीआरएफ) और अन्य कर्मचारी दिन-रात मलबा हटाने के साथ लगातार मलबे में जिंदगियां ढूंढने में जुटे हुए हैं। लेकिन कुदरत का कहर अभी कम नहीं हुआ है। इस बीच, मणिपुर में घटनास्थल के नजदीक एक और लैंडस्लाइड की घटना सामने आई है।

यह भी पढ़ें: पुरीधाम में जगन्नाथ रथ यात्रा आज से हुई शुरु, उपराष्ट्रपति ने भक्तों की दी बधाई

13 जवान और 5 नागरिकों को सुरक्षित निकाला

रिपोर्ट के अनुसार बुधवार और गुरुवार की मध्य रात्रि को मणिपुर के नोनी जिले के तुपुल रेलवे स्टेशन के नजदीक भारतीय सेना के 107 टेरिटोरियल आर्मी कैंप के पास ये लैंडस्लाइड हुआ था। यहां पर जिरीबाम से इंफाल के बीच रेलवे लाइन का निर्माण किया जा रहा है। बता दें ये सैनिक उसी की सुरक्षा के लिए तैनात थे। सैन्य प्रवक्ता ने बताया कि मलबे में दबे लोगों की तलाश के लिए वॉल रडार का इस्तेमाल किया जा रहा है। इसी के साथ खोजी कुत्तों के दस्ते को भी लगाया गया है। जिसके साथ रेस्कयू ऑपरेशन के दौरान अबतक आर्मी के 13 जवान और 5 नागरिकों को सुरक्षित निकाला जा चुका है।

मुख्यमंत्री ने बचाव कार्य का जायजा लिया

हालांकि इसी के साथ टेरिटोरियल आर्मी के 18 जवानों और 6 नागरिकों के शव अबतक बरामद कर लिया गया है। मणिपुर के सीएम एन. बीरेन सिंह ने शुक्रवार को ही घटनास्थल का दौरा किया था। जिसके बाद उन्होंने राहत और बचाव कार्य का जायजा लिया था। हालांकि इस घटना को लेकर प्रधानमंत्री ने केंद्र सरकार द्वारा हरसंभव मदद को पहुंचाने का आश्वासन दिया है।

यह भी पढ़ें: नीरज चोपड़ा ने रचा इतिहास, 20 दिनों के अंदर दोबारा से तोड़ा नेशनल रिकॉर्ड

Share This News

Leave a Reply

Your email address will not be published.