PM Modi Man ki Baat: नए साल का जश्न जरूर मनाएं लेकिन कोरोना से सतर्कता भी जरूरी

पीएम मोदी मन की बात

Man ki Baat Live: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी मन की बात कर रहे हैं। यह मन की बात कार्यक्रम का 84वां संस्करण है। कार्यक्रम के दौरान पीएम मोदी ने कहा कि नए साल का जश्न जरूर मनाएं लेकिन कोरोना को लेकर सतर्क रहने की भी जरूरत है। पीएम मोदी ने इस मौके पर तमिलनाडु के कुन्नूर में हुए हेलिकॉप्टर दुर्घटना का भी जिक्र किया। उन्होंने कहा कि हेलिकॉप्टर दुर्घटना में हमने देश के पहले सीडीएस को खो दिया, यह हमारे लिए बहुत बड़ी क्षति है।

बता दें कि पीएम मोदी का यह साल का आखिरी मन की बात है। अपने मन की बात में पीएम मोदी ने ग्रप कैप्टन वरुण सिंह की चर्चा भी की। उन्होंने कैप्टन वरुण सिंह के शौर्य की बात की। देश के पहले सीडीएस जनरल बिपिन रावत के बारे में अपने मन की बात में बोलते हुए पीएम मोदी ने कहा कि तमिलनाडु में हुए हादसे में हमने श के पहले सीडीएस जनरल बिपिन रावत और उनकी पत्नी समेत कई वीरों को खो दिया।

पीएम मोदी के मन की बात के अंश

  • ये जो नया Omicron variant आया है, उसका अध्ययन हमारे वैज्ञानिक लगातार कर रहे हैं। रोज नया data उन्हें मिल रहा है, उनके सुझावों पर काम हो रहा है। ऐसे में स्वयं की सजगता, स्वयं का अनुशासन, कोरोना के इस variant के खिलाफ देश की बहुत बड़ी शक्ति है।
  • पीएम मोदी ने कहा कि हमारी सामूहिक शक्ति ही कोरोना का खात्मा करेगी। हमें इसी दायित्वभाव से 2022 में प्रवेश करना है।
  • मेरे प्यारे देशवासियो, महाभारत के युद्ध के समय, भगवान श्रीकृष्ण ने अर्जुन को कहा था – ‘नभः स्पृशं दीप्तम्’ यानि गर्व के साथ आकाश को छूना। ये भारतीय वायुसेना का आदर्श वाक्य भी है।
  • ऐसा ही एक जीवन रहा ग्रुप कैप्टन वरुण सिंह का। वरुण सिंह भी मौत से कई दिन तक जांबाजी से लड़े, लेकिन फिर वो भी हमें छोड़कर चले गए।
  • पीएम मोदी ने कहा कि कैप्टन वरूण सिंह उस हेलिकॉप्टर को उड़ा रहे थे, जो तमिलनाडु में हादसे का शिकार हो गया। इस हादसे में हमने देश के पहले सीडीएस बिपिन रावत और उनकी पत्नी सहित कई वीरों को खो दिया।
  • पीएम मोदी ने कहा कि वरुण जब अस्पताल में थे, उस समय मैंने सोशल मीडिया पर कुछ ऐसा देखा, जो मेरे ह्रदय को छू गया। इस साल अगस्त में ही उन्हें शौर्य चक्र दिया गया था। इस सम्मान के बाद उन्होंने अपने स्कूल के प्रिंसिपल को एक चिट्ठी लिखी थी। वो चाहते थे कि जिस स्कूल में वो पढ़े, वहाँ के विद्यार्थियों की जिंदगी भी एक सेलिब्रेशन बने।
  • पीएम मोदी ने आगे कहा कि इस चिट्ठी को पढ़कर मेरे मन में पहला विचार यही आया कि सफलता के शीर्ष पर पहुँचकर भी वे जड़ों को सींचना नहीं भूले। जब उनके पास सेलिब्रेट करने का समय था, तो उन्होंने आने वाली पीढ़ियों की चिंता की।
  • अपने पत्र में उन्होंने अपने प्रराक्रम का जिक्र नहीं किया बल्कि अपनी असफलताओं की बात की। पत्र में उन्होंने यह लिखा कि कैसे उन्होंने अपनी कमियों को काबिलियत में बदला।
  • लेकिन, आज मैं कहना चाहूँगा – उन्होंने पूरे देश को प्रेरित किया है। उनका पत्र भले ही केवल एक विद्यार्थी से बात करता हो लेकिन उन्होंने हमारे पूरे समाज को एक संदेश दिया है।
  • मैं हर साल विद्यार्थियों के साथ परीक्षा पर चर्चा करता हूं। इस साल भी परीक्षा से पहले मैं छात्रों के साथ चर्चा करने की प्लानिंग कर रहा हूं। हम फिर से विद्यार्थी जीवन, परीक्षा, करियर, असफलता पर विस्तार से चर्चा करेंगे।
  • मुझे साफवाटर नाम से एक start-up के बारे में पता चला है जिसे कुछ युवाओं ने शुरु किया है। ये आर्टिफिशल इंटेलिजेंस और इंटरनेट ऑफ थिंग्स की मदद से लोगों को उनके इलाके में पानी की शुद्धता और क्वॉलिटी से जुड़ी जानकारी देगा। ये स्वच्छता का ही तो एक अगला चरण है।
  • जितना पुराना और pending material है, उसे हटाने के लिए मंत्रालयों और विभागों में विशेष अभियान भी चलाए जा रहे हैं | इस अभियान से कुछ बड़ी ही interesting चीज़े हुई हैं। जबसे सरकार ने पुराने तौर-तरीकों को बदलना शुरु किया है, ये फाइल्स और कागज के ढ़ेर Digitize होकर computer के folder में समाते जा रहे हैं।
Share This News

Leave a Reply

Your email address will not be published.