Advertisement

केंद्र और राज्य के कर्मियों ने पुरानी पेंशन की मांग को लेकर देशभर में शुरू की रिले हंगर स्ट्राइक

Share
Advertisement

New Delhi : केंद्र एवं राज्य सरकारों के कर्मचारी संगठन, पुरानी पेंशन बहाली की मांग को लेकर अनिश्चितकालीन हड़ताल पर जाने की तैयारी कर रहे हैं। इससे पहले सरकार को चेताने के लिए देशभर के सरकारी कर्मचारियों ने 8 जनवरी से 11 जनवरी तक ‘रिले हंगर स्ट्राइक’ शुरू की है। ओपीएस के लिए गठित नेशनल ज्वाइंट काउंसिल ऑफ एक्शन के संयोजक शिव गोपाल मिश्रा सहित कई एसोसिएशनों के पदाधिकारियों ने दिल्ली के जंतर-मंतर पर रिले हंगर स्ट्राइक में भाग लिया। एआईडीईएफ और कन्फेडरेशन ऑफ सेंट्रल गवर्नमेंट एंप्लाइज एंड वर्कर्स सहित विभिन्न फेडरेशन और एसोसिएशन इस हंगर स्ट्राइक में हिस्सा ले रही हैं।

Advertisement

रामलीला मैदान में रैली और धरने प्रदर्शन हुए हैं

सरकारी कर्मचारी, पुरानी पेंशन बहाली की मांग को लेकर विभिन्न चरणों में आंदोलन कर रहे हैं। इसी के तहत रामलीला मैदान में रैली और धरने प्रदर्शन हुए हैं। कर्मचारियों ने सरकार को चेताया है कि इस मुद्दे पर देश में अनिश्चितकालीन हड़ताल हो सकती है। इस हड़ताल के लिए देश के दो बड़े कर्मचारी संगठन, रेलवे और रक्षा ने अपनी सहमति दी है। स्ट्राइक बैलेट में रेलवे के 11 लाख कर्मियों में से 96 फीसदी कर्मचारी ओपीएस लागू न करने की स्थिति में अनिश्चितकालीन हड़ताल पर जाने के लिए तैयार हैं।

अनिश्चितकालीन हड़ताल शुरू हो सकती है  

इसके अलावा रक्षा विभाग (सिविल) के 4 लाख कर्मियों में से 97 फीसदी कर्मी हड़ताल के पक्ष में है। कर्मचारी संगठनों के पदाधिकारियों का कहना है कि जनवरी में हड़ताल की तिथि की घोषणा की जाएगी। इससे पहले देशभर के सरकार कर्मचारी रिले हंगर स्ट्राइक पर बैठेंगे। यह स्ट्राइक सरकार को चेताने के लिए है। एनजेसीए के पदाधिकारियों का कहना है कि सरकारी कार्यालयों और प्रतिष्ठानों में बहुत जल्द अनिश्चितकालीन हड़ताल शुरू हो सकती है।

यह भी पढ़ें – Rajasthan Election: राजस्थान में BJP को झटका, करणपुर सीट पर मिली करारी हार

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *