महंत नरेंद्र गिरि का 6 पेज का सुसाइड नोट, पुलिस की पूछताछ में शिष्यों से ये हुआ खुलासा

प्रयागराज: अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष महंत नंरेंद्र गिरी की मौत की गुत्थी उलझती जा रही है। नरेंद्र गिरी की मौत मामले में पुलिस को जो सुसाइड नोट मिला उसमे उनके शिष्य आनंद गिरी के साथ लेटे हनुमान मंदिर के मुख्य पुजारी आद्या तिवारी और उसके बेटे संदीप का नाम भी है। लेकिन पुलिस ने सिर्फ आनंद गिरी के खिलाफ 306 का मुकदमा दर्ज किया है।

आनंद गिरी के खिलाफ 306 का मुकदमा दर्ज

हालांकि यूपी के एडीजी लां एंड आर्डर प्रशांत कुमार का कहना है कि सुसाइड नोट में लिखे आनंद गिरी के साथ ही आद्या तिवारी और संदीप से भी पूछताछ की जा रही है और इससे जुड़े हर पहलू की जांच होगी और जो लोग दोषी होंगे सभी के खिलाफ कार्यवाही होगी।

पुलिस शव के पीएम के बाद पीएम रिपोर्ट आने का इंतजार कर रही

अब सवाल उठता है कि आखिर FIR  में आद्या और संदीप को क्यों आरोपी नही बनाया गया। हालांकि मामले में आद्या और संदीप के साथ गनर अजय से भी पुलिस की टीमे पूछताछ कर रही है। वहीं हरिद्वार से आनंद गिरी को भी लाकर पुलिस अधिकारी उससे भी पूछताछ करेंगे। खुद एडीजी कह रहे है कि आनंद और नंरेंद्र गिरी के बीच पहले विवाद सामने आ चुका है जिसकी भी पड़ताल की जा रही है। अब ये सुसाइड है या हत्या। इसे लेकर पुलिस शव के पीएम के बाद पीएम रिपोर्ट आने का इंतजार कर रही है।

शासन स्तर पर सीबीआई जांच होगी तो यूपी पुलिस पूरी तरह से तैयार : एडीजी लां एंड आर्डर प्रशांत कुमार

लेकिन नरेंद्र गिरी के करीबी और महन्त समाज ये मानने को तैयार ही नही है कि नरेंद्र गिरी सुसाइड कर सकते है। लिहाजा मामले में सीबीआई जांच की मांग भी उठने लगी है। जिस पर एडीजी लां एंड आर्डर प्रशांत कुमार भी कह रहे है कि यदि शासन स्तर पर सीबीआई जांच होगी तो यूपी पुलिस पूरी तरह से तैयार है। साथ ही सुसाइड नोट को फॉरेंसिक जांच के लिए भेजा गया है। बहरहाल अब ये सुसाइड है या फिर नंरेंद्र गिरी किसी बड़ी साजिश का शिकार हुए है। ये तो जांच के बाद ही साफ हो पायेगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *