भारत की पहली हाइड्रोजन कार से संसद पहुंचे गडकरी, देखिए ‘Mirai’ की पहली झलक

भारत की हाइड्रोजन कार

केंद्रीय परिवहन मंत्री नितिन गडकरी आज हाइड्रोजन से चलने वाली कार से संसद पहुंचे। इस कार का नाम ‘मिराई’ है। जिसे टोयोटा ने लॉन्च किया था। इस एडवांस कार के जरिए नितिन गडकरी ये संदेश देना चाहते हैं कि भारत के ट्रांसपोर्ट सिस्टम में एक क्रांतिकारी बदलाव आने वाला है।

नितिन गडकरी ने बताया कि हाइड्रोजन कार पूरी तरह से पर्यावरण के अनुकूल है और इससे किसी तरह का प्रदूषण नहीं फैलता है। उन्होंने कहा कि यह कार भारत का फ्यूचर है। यह कार पायलट प्रोजेक्ट है और अब देश में हाइड्रोजन कार का निर्माण शुरू होगा। आयात पर अंकुश लगेगा और रोजगार के नए अवसर पैदा होंगे। गडकरी अक्सर नवीकरणीय ऊर्जा और हरित ऊर्जा में परिवर्तन के बारे में बात करते रहते हैं।

वीडियो में देख सकते हैं नीतिन गडकरी कार में बैठे हुए हैं। सफेद रंग की कार में हरे रंग की नंबर प्लेट है जिसका इस्तेमाल इलेक्ट्रिक वाहनों में भी किया जाता है। वहीं हाइड्रोजन से चलने वाली यह कार लोगों के आकर्षण का केंद्र बनी रही।

टोयोटा मोटर्स ने भारत में अपनी पहली हाइड्रोजन कार Toyota Mirai लॉन्च की हैं। हाइड्रोजन फ्यूल सेल पर चलने वाली देश की इस पहली कार को नितिन गडकरी ने लॉन्च किया था। गडकरी ने इस कार को भारत का फ्यूचर बताया है। दिलचस्प बात यह है कि कार के नाम का अर्थ जापानी भाषा में मिराई है, जिसका अर्थ फ्यूचर यानी भविष्य है।

कार की टैंक एक बार फुल कराने पर यह कार 600 किलोमीटर की दूरी तय कर सकती है। इस कार की ईंधन टैंक को भरने में सिर्फ पांच मिनट का समय लगता हैं।

हाइड्रोजन एक ऐसा ईंधन है जो वैसे तो रॉकेट को अंतरिक्ष में पहुंचाने के लिए इस्‍तेमाल होता है, लेकिन यह कारों में भी काफी कारगर है। हालांकि इसके लिए जेब कुछ ज्‍यादा ढीली करनी पड़ सकती है। लेकिन इससे पर्यावरण सुरक्षित रहता है। हाइड्रोजन फ्यूल से चलने वाली कारें पारंपरिक ईंधन से चलने वाली कारों की तुलना में धुएं का उत्‍सर्जन भी काफी कम करता है। इससे पर्यावरण पर कम असर पड़ता हैं।

Share This News

Leave a Reply

Your email address will not be published.