लखीमपुर खीरी बवाल में 8 लोगों की मौत का मामला गर्माया, पुलिस की जीप में लगाई गई आग

Lakhimpur_Kheri:  रविवार को कृषि कानूनों और केंद्रीय गृह राज्यमंत्री अजय मिश्र टेनी की टिप्पणी का विरोध कर रहे किसानों और मंत्री के बेटे के बीच हुए टकराव ने भयावह रुप ले लिया है। आपको बता दें कि तिकुनियां कस्बे में हुए बवाल के दौरान मंत्री के बेटे आशीष मिश्र की गाड़ी से कुचलकर 8 लोगों की मौत और कई घायल हो गए। इसी बीच विरोध के चलते किसानों ने जानबूझकर गाड़ी चढ़ाने का आरोप भी लगाया है।

लखीमपुर खीरी बवाल LIVE

सरकार इस मामले को गंभीरता से ले रही है और मामले की गहराई से जांच हो रही है। मुख्यमंत्री ने कहा है कि दोषी को कड़ी सज़ा दी जाएगी। चुनाव नज़दीक है तो विपक्ष लखीमपुर खीरी का राजनीतिक पर्यटन करना चाहता है: लखीमपुर खीरी की घटना पर यूपी कैबिनेट मंत्री सिद्धार्थ नाथ सिंह

उत्तर प्रदेश सरकार ने पंजाब के मुख्य सचिव को पत्र लिखकर राज्य से किसी को भी लखीमपुर खीरी नहीं जाने देने का अनुरोध किया। लखीमपुर खीरी में कल हिंसा में 8 लोगों की मौत के बाद सीआरपीसी की धारा 144 लागू की गई थी।

उत्तर प्रदेश: लखीमपुर खीरी जाने के लिए लखनऊ में अपने घर के बाहर धरने पर बैठे समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव को पुलिस ने हिरासत में लिया।

लखीमपुर में जिस प्रकार किसानों को रौंदा गया, ये उनकी मानसिकता है कि वो बता रहे हैं कि हमारा विरोध करोगे तो हम इसी प्रकार से कुचल देंगे। ये मानसिकता पूरे देश के लिए खतरनाक है, इससे पूरा देश आंदोलित हुआ है: छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल

जो कानून-व्यवस्था की बात को लेकर सत्ता में आए थे, कानून-व्यवस्था की किस तरह से धज्जियां उड़ रही है पूरा देश देख रहा है। योगी आदित्यनाथ के कंट्रोल में अब कुछ नहीं रहा। अगर मंत्री के बेटे नहीं थे तो विपक्ष को जाने क्यों नहीं दिया जा रहा है: छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल

इतना जुल्म अंग्रेजों ने भी नहीं किया जितना BJP की सरकार किसानों पर कर रही है। गृह राज्य मंत्री को इस्तीफ़ा देना चाहिए और उपमुख्यमंत्री जिनका कार्यक्रम था उन्हें भी इस्तीफ़ा देना चाहिए। जिन किसानों की जान गई है उन्हें 2 करोड़ रुपये की मदद हो, परिवार की सरकारी नौकरी हो: अखिलेश यादव

Share This News

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *