Advertisement

Delhi News: ‘LG के बयान से साबित हुआ, BJP के लिए काम कर रही हैं स्वाति मालीवाल’, AAP का जोरदार हमला!

delhi-news-aap-on-bjp-lg-vk-saxena-swati-maliwal-assault-case-news-in-hindi

delhi-news-aap-on-bjp-lg-vk-saxena-swati-maliwal-assault-case-news-in-hindi

Share
Advertisement

Delhi News: दिल्ली महिला आयोग की पूर्व अध्यक्ष स्वाति मालीवाल मामले में दिल्ली के एलजी वीके सक्सेना (VK Saxena) का बयान आने पर आम आदमी पार्टी ने कोई हैरानी नहीं जताई है। ‘‘आप’’ का कहना है कि एलजी के बयान से आज यह साबित हो गया है कि स्वाति मालीवाल भाजपा के लिए काम कर रही हैं। चुनाव में भाजपा रोज नई साजिश लेकर आ रही है।

Delhi News: स्वाति मालीवाल को मोहरा बना रही भाजपा – AAP

भाजपा कभी शराब घोटाला ला रही है, कभी स्वाति मालीवाल (Swati Maliwal) को मोहरा बना रही है, तो कभी विदेश फंडिंग के झूठे आरोप आरोप लगा रही है।  दिल्ली में 25 और पंजाब में एक जून को लोकसभा चुनाव के लिए मतदान हैं, तब तक भाजपा ऐसे ही रोज नए हथकंडे अपनाएगी।

सच्चाई यह है कि दिल्ली समेत पूरे देश में भाजपा बुरी तरह से हार रही है। इसलिए मोदी जी की डूबती नैया को अब स्वाति मालीवाल का सहारा है। भाजपा और प्रधानमंत्री स्वाति मालीवाल के ज़रिए दिल्ली के अंदर अपना चुनाव उठाना चाह रहे हैं, लेकिन जनता सब देख रही है और इसका जवाब अपने वोट से देगी।


Delhi News: पहलवान बेटियों के मामले में चुप क्यों रहे LG – सौरभ भारद्वाज

Advertisement

उधर, आम आदमी पार्टी के वरिष्ठ नेता एवं कैबिनेट मंत्री सौरभ भारद्वाज (Saurabh Bhardwaj) ने एक्स पर एलजी वीके सक्सेना को संबोधित एक पोस्ट किया है। पोस्ट में उन्होंने कहा कि सक्सेना साहब, शायद आप भूल गए, देश के लिए मेडल जीतने वाली पहलवान बेटियां, इसी दिल्ली के जंतर-मंतर पर धरने पर बैठी थीं। धूप और बरसात में भी बैठी थी।

एफआईआर करवानी थी कि भाजपा के सांसद बृजभूषण ने बार-बार उनका शारीरिक शोषण किया था। तब आपके अधीन दिल्ली पुलिस ने एफआईआर तक दर्ज नहीं की थी। बताइए क्यों नहीं दर्ज की? एफआईआर भी सुप्रीम कोर्ट के आदेश पर दर्ज हुई थी। मगर धारा 354 के मुक़दमे के बावजूद भाजपा सांसद एक दिन के लिए भी गिरफ़्तार नहीं हुआ।

दिल्ली पुलिस आपके अधीन है। बताइए क्यों गिरफ़्तार नहीं किया? आप पूरे प्रकरण पर क्यों चुप रहे? आप उनसे मिलने क्यों नहीं गए? तब आपको दिल्ली और भारत की अंतर्राष्ट्रीय छवि की चिंता नहीं हुई? आपके अधीन पुलिस ने आधी रात को इन बेटियों को बेरहमी से पीटा। बताइए आपने क्या कार्यवाही की? उसी रात को स्वाति मालीवाल को भी पुलिस ने सड़क पर घसीटा था। बताइए आपने क्या कार्यवाही की? थोड़ा गिरेबान में झांकिए।


स्वाति मालीवाल के कॉल रिकॉर्ड की जांच होनी चाहिए – AAP

आम आदमी पार्टी का कहना है कि दिल्ली महिला आयोग की पूर्व अध्यक्ष एवं राज्यसभा सदस्य स्वाति मालीवाल पर एंटी करप्शन ब्यूरो का एक भर्ती घोटाले का केस चल रहा है कि डीसीडब्ल्यू में गलत तरीके से संविदा कर्मचारियों को भर्ती किया गया। यह केस पिछले कई सालों से चल रहा है। उन पर एफआईआर भी हुई है।

अब ये मामला खत्म होने के करीब है। इसलिए ऐसा लगता है कि भारतीय जनता पार्टी का अलग-अलग नेताओं पर केस करने का यह जो फार्मूला है, उसी फार्मूले को स्वाति मालीवाल पर इस्तेमाल किया गया होगा। उन पर डीसीडब्ल्यू में जो केस चल रहा है, शायद उस पर धमकी देकर स्वाति मालीवाल से यह करवाया गया है। स्वाति मालीवाल के कॉल रिकॉर्ड की जांच होनी चाहिए।

पिछले कुछ महीनों से वो लगातार भारतीय जनता पार्टी के नेताओं से संपर्क में हैं। दिल्ली पुलिस इस बात की जांच करे कि यह कैसा राजनैतिक षड़यंत्र है, जो दिल्ली में मतदान से बिल्कुल 5 दिन पहले अरविंद केजरीवाल पर हमला करने के लिए रचा जाता है।

जांच एजेंसियों का दुरुपयोग कर रही भाजपा की सरकार – AAP

‘‘आप’’ का कहना है कि जांच एजेंसियों का दुरुपयोग करती है। विपक्ष के दूसरे नेताओं की तरह भाजपा ने स्वाति मालीवाल मामले पर एंटी करप्शन ब्यूरो द्वारा पहले केस कराया, फिर एफआईआर की गई और अभी उसकी जांच हो रही है। अब इसी केस के माध्यम से स्वाति मालीवाल से यह षड़यंत्र रचाया गया है।

स्वाति मालीवाल को चुनाव से ठीक पहले इस षड़यंत्र का मोहरा बनाया गया है। पूरे मामले की निष्पक्ष जांच होनी चाहिए कि कौन किसके संपर्क में है। भाजपा के किस नेता से स्वाति मालीवाल मिलीं, कब मिलीं, फोन और वाट्सएप पर क्या बात हुई।

ये भी पढ़ें- Lok Sabha Election 2024: PM मोदी आज दिल्ली-UP में भरेंगे चुनावी हुंकार

Hindi Khabar App: देश, राजनीति, टेक, बॉलीवुड, राष्ट्र,  बिज़नेस, ज्योतिष, धर्म-कर्म, खेल, ऑटो से जुड़ी ख़बरों को मोबाइल पर पढ़ने के लिए हमारे ऐप को प्ले स्टोर से डाउनलोड कीजिए. हिन्दी ख़बर ऐप

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *