महाराष्ट्र में फ्लोर टेस्ट को लेकर सुप्रीम फैसले पर सस्पेंस, कोर्ट में सुनवाई जारी

Maharashtra Political Crisis Latest News: महाराष्ट्र में चल रहे सियासी उतार चढ़ाव के बीच राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी ने उद्धव सरकार को 30 जून को फ्लोर टेस्ट करके बहुमत साबित करने को कहा है। ऐसे में ये सियासी घमासान अब निर्णायक मोड़ की तरफ बढ़ता जा रहा है। बता दें शिवसेना ने राज्यपाल कोश्यारी के आदेश के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट में अर्जी दाखिल किया था। जिसे लेकर सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई जारी है। एक तरफ भाजपा ने यहां सरकार बनाने की कवायद तेज कर दी है। वहीं शिंदे गुट के विधायक भी गुवाहाटी के होटल से निकल चुके हैं।

यह भी पढ़ें: महाराष्ट्र विधानसभा में फ्लोर टेस्ट के खिलाफ SC पहुंची शिवसेना, आज शाम 5 बजे होगी सुनवाई

इससे पहले पूर्व मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस महाराष्ट्र के राज्यपाल को चिट्ठी लिखकर फ्लोर टेस्ट कराने की मांग कर चुके हैं। वहीं सुप्रीम कोर्ट में जारी सुनवाई को देखते हुए उद्धव गुट के वकील सिंघवी बोले की अगर कल फ्लोर टेस्ट नहीं हुआ तो क्या आसमान गिर जाएगा? वहीं फ्लोर टेस्ट के खिलाफ शिवसेना सुप्रीम कोर्ट पहुंच गई है। उधर शिंदे गुट अपने समर्थक विधायकों को गोवा शिफ्ट कराने की तैयारी में है।

अभिषेक सिंघवी ने सुप्रीम कोर्ट में क्या कहां?

बता दें खबरों के अनुसार जहां मामला सुप्रीम कोर्ट में फैसले का इंतजार कर रहा है। वहीं कोविड से ठीक हुए राज्यपाल अगले दिन विपक्ष के नेता के साथ बैठक के बाद फ्लोर टेस्ट की मांग कैसे कर सकते हैं? उन्होंने कहा, जो लोग पक्ष बदल चुके हैं और दलबदल कर चुके हैं, वे लोगों की इच्छा का प्रतिनिधित्व नहीं कर सकते। क्या राज्यपाल कल फ्लोर टेस्ट नहीं बुलाने के लिए कोर्ट पर भरोसा नहीं कर सकते है? इसी के साथ  शिवसेना नेता सुनील प्रभु की ओर से शीर्ष न्यायालय में पेश हुए सिंघवी ने उच्चतम न्यायालय से कहा कि शक्ति परीक्षण की अनुमति देने का मतलब 10वीं अनुसूची को निष्क्रिय करना होगा।

यह भी पढ़ें: Udaipur हत्याकांड के बाद राजसमंद में पुलिसकर्मी पर हमला, CM गहलोत ने बुलाई सर्वदलीय बैठक

Share This News

Leave a Reply

Your email address will not be published.