Advertisement

इस खिलाड़ी की वजह से चेन्नई 10वीं बार फाइनल में पहुंची, जानें कौन है ?

Share
Advertisement

IPL में 10वां मैन ऑफ द मैच खिताब जीतने वाले ऋतुराज गायकवाड ने चेन्नई सुपर किंग्स को 10वीं बार फाइनल में पहुंचा दिया। CSK ने पहले खेलते हुए 7 विकेट खोकर 172 रन बनाए।

Advertisement

जिसके जवाब में GT 157 रन बनाकर ऑल आउट हो गई और 15 रन से मैच हार गई। चेन्नई के लिए 249 मुकाबले खेलकर महेंद्र सिंह धोनी ने सबसे ज्यादा 15 बार मैन ऑफ द मैच का अवॉर्ड जीता है। रवींद्र जडेजा ने 225 मुकाबले खेलकर 12 दफा और सुरेश रैना ने 205 मुकाबले खेल कर 12 बार मैन ऑफ द मैच के खिताब पर कब्जा किया है।

10 बार मैन ऑफ द मैच के खिताब पर कब्जा

ऋतुराज गायकवाड ने सिर्फ 51 IPL मुकाबले खेल कर 10 बार मैन ऑफ द मैच के खिताब पर कब्जा जमा लिया है। CSK टॉस हार गई थी। शुरुआती ओवरों में ही समझ आ गया था कि परिस्थितियां बल्लेबाजी के लिए कोई खास अनुकूल नहीं हैं। ऋतुराज ने दर्शन नलकंडे के दूसरे ओवर की तीसरी बैक ऑफ लेंथ गेंद को फ्रंट फुट पर रहते हुए लॉन्गऑन के ऊपर से छक्के के लिए पुल कर दिया।

अगली गेंद गुड लेंथ आउटसाइड ऑफ। ऋतुराज ने आगे की तरफ झुकते हुए एक्स्ट्रा कवर की दिशा में खूबसूरत ड्राइव कर चौका हासिल कर लिया। वह लगातार कोशिश कर रहे थे कि गेंद को शरीर से करीब खेलें, ताकि आउटसाइड एज की संभावना खत्म हो जाए। मोहम्मद शमी के तीसरे ओवर की चौथी गेंद भी गुड लेंथ आउटसाइड ऑफ थी।

ऋतुराज फिर से गेंद के करीब गए और कवर्स की दिशा में चौका लगा दिया। राशिद खान के पांचवें ओवर की पांचवीं गेंद थोड़ी ज्यादा ही फुलर लेंथ की थी। ऋतुराज आगे आए और कलाइयों के सहारे गेंद को कवर्स के ऊपर से लॉफ्ट करते हुए चौका हासिल कर लिया। नूर अहमद ने छठे ओवर की पहली गेंद शॉर्ट रखी।

सीजन का अपना चौथा अर्धशतक

ऋतुराज के बल्ले से क्रैकिंग पुल शॉट और गेंद डीप मिडविकेट बाउंड्री के बाहर 4 रन के लिए चली गई। राशिद खान ने सातवें ओवर की चौथी गेंद पर ऋतुराज को आउटसाइड ऑफ विड्थ ऑफर की। बदले में ऋतुराज ने लेट कट करते हुए पॉइंट की दिशा में चौका बटोर लिया। मोहित शर्मा ने भी नवें ओवर की दूसरी गेंद पर आउटसाइड ऑफ ऋतुराज को रूम दिया। नतीजा ऋतुराज गायकवाड़ ने बैकवर्ड पॉइंट की दिशा में चौका जड़कर सीजन का अपना चौथा अर्धशतक पूरा कर लिया।

परिस्थितियों का डटकर सामना किया

ऋतुराज ने बल्लेबाजी के लिए मुश्किल विकेट पर अभी तक देखने की बजाय परिस्थितियों का डटकर सामना किया। नवें ओवर की पांचवीं गेंद शॉर्ट ऑफ गुड लेंथ आउटसाइड ऑफ थी। ऋतुराज ने पूरी ताकत के साथ कट करने का प्रयास किया। बल्ले का अंदरूनी किनारा विकेटकीपर के सामने टप्पा खाने के बाद 4 रन के लिए चला गया।

ऋतुराज की बल्लेबाजी में इंटेंट नजर आ रहा था। रन गति बढ़ाने के प्रयास में मोहित शर्मा के 11वें ओवर की तीसरी गेंद पर ऋतुराज लॉन्गऑन फील्डर को कैच थमा बैठे। पर जाने से पहले उन्होंने 44 गेंद पर 7 चौकों और 1 छक्के की मदद से 60 रन बना दिए।

ऋतुराज ने एक ऐसी नींव तैयार की

ऋतुराज ने मुश्किल विकेट पर डटकर गुजरात के गेंदबाजों पर प्रहार किए। आउट होकर वापस पवेलियन जाने से पहले ऋतुराज ने एक ऐसी नींव तैयार कर दी, जिसपर चेन्नई बड़ा स्कोर खड़ा कर सकती थी। ऋतुराज ने इस सीजन 15 मुकाबलों में 564 रन बनाकर साबित किया है कि वह भविष्य में टीम इंडिया के बहुत काम आएंगे। ऋतुराज यूं ही मुश्किल विकेट पर भी पूरे संयम के साथ रन बनाएंगे। टीम इंडिया को मुश्किल मुकाबले जिताएंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

अन्य खबरें