करहल की चुनावी जंग में दिखी, शाह की शह और मुलायम की मात

Mulayam/ Shah

उत्तर प्रदेश विधानसभा के चुनाव अब तीसरे चरण के करीब पहुंच चुके हैं। सभी पार्टियां चुनाव प्रचार में कोई कोर-कसर नहीं छोड़ना चाहती हैं।

इसी कड़ी में गुरुवार को करहल विधानसभा सीट पर एक दिलचस्प वाक्या हुआ। जब समाजवादी पार्टी के संस्थापक और वरिष्ठ नेता मुलायम सिंह और गृह मंत्री अमित शाह एक ही दिन करहल पहुंचे।

ये वो अहम सीट है जहां सपा से अखिलेश यादव और बीजेपी से केंद्रीय मंत्री एसपी सिंह बघेल आमने-सामने हैं।

बेरोजगारी पर बोले मुलायम

एक लंबे अरसे बाद चुनावी मंच पर नजर आए मुलायम सिंह यादव ने सरकार को कृषि से लेकर बेरोजगारी के मुद्दे पर घेरा।  

“किसानों की खाद की व्यवस्था की जाए, उनके फसलों को बेचने की व्यवस्था की जाए। किसानों को प्राथमिकता दी जाए। खाद, बीज का इंतजाम किया जाए और उनको सिंचाई का साधन उपलब्ध कराया जाए जिससे पैदावार बढ़े। पैदावार बढ़ेगी तो किसानों की हालत सुधरेगी।”

इसके साथ ही 82 वर्ष के हो चुके मुलायम सिंह यादव ने कहा कि अगर समाजवादी की सरकार बनती है तो बेरोजगारो के लिए रोजगार की व्यवस्था की जाएगी।

परिवारवाद पर शाह ने घेरा

एक तरफ जहां मुलायम सिंह यादव ने सरकार को रोजगार और कृषि जैसे मुद्दों पर घेरने की कोशिश की तो वहीं दूसरी ओर केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने समाजवादी पार्टी और अखिलेश यादव को परिवारवाद और अपराध के मुद्दों पर घेरने की कोशिश की।

शाह ने कहा, “अखिलेश ने पर्चा डालते हुए कहा था कि अब 10 मार्च को आऊंगा लेकिन छठे दिन ही मैदान में आ गए। और इस कड़ी धूप में भी इतनी आयु वाले नेता जी को भी मैदान में उतारना पड़ गया है।”

इसके आगे अमित शाह ने कहा कि सपा सरकार में 45 अलग-अलग लोगों को पद मिले थे। ये लोग सिर्फ अपने ही परिवार का सोचते हैं। अपने ही परिवार का भला करते हैं। समाज का भला नहीं करते हैं। जबकि मोदी सरकार ने सबका साथ सबका विकास का नारा देकर समाज का भला करने का काम किया है।

शाह ने अपनी सरकार द्वारा बिजली, एक्सप्रेस-वे, सिंचाई योजना और घर-घर शौचालय बनवाने जैसे काम गिनवाए।

गृहमंत्री ने सपा-बसपा को जातिगत राजनीति के लिए भी घेरा। उन्होंने कहा भाजपा गरीबों और पिछड़ो के लिए काम करती है लेकिन सपा-बसपा केवल अपनी-अपनी जातियों के लिए शासन करती है।

यूपी में तीसरे चरण के वोटिंग 20 फरवरी को होगी।

Share This News

Leave a Reply

Your email address will not be published.