Advertisement

WestBengal: कोलकाता के सरकारी अस्पताल की पोल खुली, सीएम ममता को दिया गया गलत इलाज!

WestBengal

WestBengal: कोलकाता के सरकारी अस्पताल की पोल खुली, सीएम ममता को दिया गया गलत इलाज!

Share
Advertisement

WestBengal: बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी को कोलकाता के प्रतिष्ठित सरकारी अस्पताल एसएसकेएम (SSKM) में गलत इलाज मिला। इसका दावा खुद सीएम ममता बनर्जी ने बुधवार को किया। सीएम ममता बनर्जी के दावा से कोलकाता के सरकारी अस्पताल की पोल खुल गई है। सीएम ममता बनर्जी ने बुधवार को राज्य सचिवालय नबान्न में एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा, ”मैं 10-12 दिनों से आईवी इंजेक्शन ले रही हूं, क्योंकि गलत इलाज के कारण मेरे पैर में संक्रमण सेप्टिक हो गया।” उन्होंने कहा कि उनके पैर की चोट का गलत इलाज किया गया।

Advertisement

मुख्यमंत्री के पैर में चोट लगी थी। उसके बाद उनका इलाज एसएसकेएम (SSKM) अस्पताल में किया गया था। सीएम ममता बनर्जी के खुलासे पर नेता प्रतिपक्ष शुभेंदु अधिकारी ने हमला बोलते हुए कहा कि सीएम ममता बनर्जी के स्वास्थ्य मंत्री के पद से इस्तीफा देना चाहिए।

बता दें कि मुख्यमंत्री को हेलिकॉप्टर की अपात लैंडिंग के दौरान पैर में चोट लग गई थी. बाद मेंमुख्यमंत्री के स्पेन दौरे के दौरान पैर में लगी पुरानी चोट में फिर से चोट लग गई। वह स्पेन और दुबई की यात्रा के बाद 23 सितंबर की शाम को कोलकाता लौटी। अगले दिन यानी 24 सितंबर को मुख्यमंत्री के पैर का इलाज एसएसकेएम अस्पताल में किया गया। वह उस शाम घर लौट गई।

ममता बनर्जी का सरकारी अस्पताल पर बड़ा आरोप

हालांकि डॉक्टरों ने उन्हें अस्पताल में भर्ती होने की सलाह दी, लेकिन मुख्यमंत्री घर पर ही इलाज कराना चाहती थी. विशेषज्ञ डॉक्टरों की देखरेख में घर पर ही उनका इलाज चल रहा था। पैर की समस्या के कारण डॉक्टरों की सलाह के अनुसार उन्हें लंबे समय तक घर पर रहना पड़ा। मुख्यमंत्री और तृणमूल सुप्रीमो घर बैठे ही सारी प्रशासनिक और पार्टी गतिविधियां चला रही थीं।

मुख्यमंत्री ने बुधवार को कहा कि जिस तरह से कुछ लोग यह कहना चाह रहे हैं कि वह 55 दिनों के बाद मंगलवार को नबान्न गईं। वे गलत जानकारी दे रहे हैं। क्योंकि मुख्यमंत्री भले ही घर पर हैं, वह उनका कार्यालय है। वहीं से वह सारा काम संभालती थी।

इस दौरान मुख्यमंत्री ने आवास पर राज्य कैबिनेट की बैठक भी की। बाढ़ प्रभावित उत्तर बंगाल, सिक्किम आपदा से पर्यटकों को बचाने के लिए वर्चुअल मीडिया के माध्यम से प्रशासनिक बैठकें आयोजित करने से लेकर, महालया से पहले राज्य में एक हजार से अधिक पूजाओं का उद्घाटन करने तक-सब कुछ घर से किया गया था।

शुभेंदु अधिकारी ने स्वास्थ्य मंत्री से मांगा इस्तीफा

विपक्षी नेता शुभेंदु अधिकारी ने मुख्यमंत्री की प्रेस कॉन्फ्रेंस के क्लिप एक्स हैंडल पर पोस्ट करते हुए लिखा, ”एसएसकेएम अस्पताल में मुख्यमंत्री के गलत इलाज के लिए स्वास्थ्य मंत्री को इस्तीफा देना चाहिए.” संयोग से, स्वास्थ्य विभाग की प्रभारी ममता हैं। सीपीएम नेता सुजन चक्रवर्ती ने चुटकी लेते हुए कहा, ”यह राज्य के सबसे अच्छे अस्पताल का सबसे अच्छा विज्ञापन है।”

ये भी पढ़ें: MP Assembly Election 2023: मध्य प्रदेश में जीत के लिए कांग्रेस ने झोंकी पूरी ताकत, 13 दिन में होंगी 180 से ज्यादा रैलियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

अन्य खबरें