तेलंगाना: 60 प्रतिशत से अधिक आबादी ने COVID-19 के खिलाफ करी एंटीबॉडी विकसित

नई दिल्ली: तेलंगाना (Telangana) में 60 प्रतिशत से अधिक आबादी ने कोविड-19 (COVID-19) के खिलाफ एंटीबॉडी विकसित कर ली है। दरअसल हाल ही में हैदराबाद (Hyderabad) स्थित राष्ट्रीय पोषण संस्थान (National Institute of Nutrition) ने अपने सीरो अध्ययन के चौथे दौर की रिपोर्ट में यह मुख्य जानकारी दी है। मालूम हो कि राष्ट्रीय पोषण संस्थान ने बताया है कि तेलंगाना में सीरो-पॉजिटिविटी दर (sero-positivity rate) 60.1 प्रतिशत है। इसके अलावा राष्ट्रीय संस्थान ने राज्य सरकार (State government) के साथ मिलकर जनगांव, नलगोंडा और कामारेड्डी जिलों में सर्वेक्षण किया है। साथ ही 6 से 9 वर्ष के बीच के बच्चों सहित सभी आयु समूहों को शामिल किया है।

60 प्रतिशत लोगों में एंटीबॉडी विकसित हो गए

राष्ट्रीय पोषण संस्थान (National Institute of Nutrition) की निदेशक डॉ आर हेमलता (Dr R Hemlata) ने बताया कि करिब 40 प्रतिशत आबादी अभी भी अतिसंवेदनशील है। जबकि लगभग 60 प्रतिशत लोगों में एंटीबॉडी (Antibodies) विकसित हो चुकी हैं। डॉ आर हेमलता ने लोगों से मास्क पहनने, बार-बार हाथ धोने और शारीरिक दूरी बनाए रखने जैसे एहतियाती उपायों का पालन करते रहने का अनुरोध किया हैं। सर्वेक्षण के दौरानमें यह भी पता चला कि 6 से 9 वर्ष के बीच के करिब 55 प्रतिशत बच्चे सीरो-पॉजिटिव पाए गए है। जबकि 61 प्रतिशत किशोरों में कोविड एंटीबॉडी (covid antibodies) पायी गयी है। इसके साथ स्वास्थ्य कर्मियों (health workers) में भी सीरो-पॉजिटिविटी 82.4 प्रतिशत तक थी।

लोगों को लगा कोविड रोधी टीका

जानकारी के अनुसार इसी अध्ययन में यह भी पता चला है कि जिन लोगों को अभी तक कोविड रोधी टीका (anti covid vaccine) नहीं लगा है। उन लोगों में सीरो-पॉजिटिविटी 51.3 प्रतिशत कम थी। जबकि पहली डोज ले चुके लोगों में यह 78.5 प्रतिशत थी। कोविड रोधी टीके की दोनों खुराक लेने वाले 94 प्रतिशत लोगों में एंटीबॉडी पायी गयी है। सीरो-सर्वेक्षण (sero-survey) का पहला दौर मई 2020 में आयोजित किया गया था।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *