भाजपा शासित MCD गफ्फार मार्केट की दुकानों से दुकानदारों को बेदखल करके नई बिल्डिंग बनाकर नए लोगों को बेचना चाहती है दुकानें: सौरभ भारद्वाज

नई दिल्ली: आम आदमी पार्टी ने भाजपा शासित नार्थ एमसीडी द्वारा गफ्फार मार्केट की दुकानें तीन दिन में खाली करने के लिए नोटिस भेजने का विरोध किया है। ‘आप’ के मुख्य प्रवक्ता सौरभ भारद्वाज ने कहा कि एमसीडी गफ्फार मार्केट की दुकानों से दुकानदारों को बेदखल करके नई बिल्डिंग बनाकर नए लोगों को दुकानें बेचना चाहती है। एमसीडी बिल्डर माफियाओं से मिलकर लीज पर दी गई दुकानों का सर्वे करा रही है और बिल्डिंग को खतरनाक दिखाकर खाली करने का नोटिस भेज रही है। आईआईटी रूड़की की जांच में खुलासा हुआ है कि घटिया सीमेंट लगाने की वजह से गफ्फार मार्केट की बिल्डिंग की हालात अब ठीक नहीं है।

घटिया सीमेंट लगाने की वजह से गफ्फार मार्केट की बिल्डिंग की हालात अब ठीक नहीं

आम आदमी पार्टी के मुख्य प्रवक्ता एवं विधायक सौरभ भारद्वाज ने आज पार्टी मुख्यालय में नॉर्थ दिल्ली म्युनिसिपल कारपोरेशन (एनडीएमसी) से संबंधित मुद्दे पर एक महत्वपूर्ण प्रेस वार्ता को संबोधित किया। सौरभ भारद्वाज ने कहा कि डीडीए और एमसीडी जगह-जगह पर मार्केट कांम्प्लेक्स बनाती हैं और इन मार्केट के अंदर जो दुकानें हैं, उनको 99 साल की लीज पर देती हैं। लीज पर देने का मुख्य मकसद यह होता है कि बीच में फ्री होल्ड की स्कीम निकाली जाती है और दुकानदारों की यह दुकानें फ्री होल्ड कर दी जाती हैं।

दुकानों से दुकानदारों को बेदखल करके नई बिल्डिंग बनाकर नए लोगों को बेचना चाहती है दुकानें: सौरभ भारद्वाज

सौरभ भारद्वाज ने कहा कि अभी जो हमारे पास मामला आया है, वह गफ्फार मार्केट का है। वहां सरस्वती मार्ग पर एमसीडी की एक मार्केट है, जिसके अंदर 1976 में आवंटन (एलॉटमेंट) किए गए थे और दुकानदारों को 99 साल की लीज पर यह दुकाने दी गई थीं। अब 2021 में एमसीडी ने आईआईटी रुड़की से इसकी जांच कराई है और आईआईटी रुड़की खुद लिखता है कि घटिया ग्रेड का सीमेंट लगाने की वजह से इस बिल्डिंग के हालात अब ठीक नहीं है। बिल्डिंग के अंदर और भी बहुत सी खामियां हैं, जिसके कारण एमसीडी कह कह रही है कि इसको तोड़ कर अब दोबारा बनाया जाएगा। रिपोर्ट- कंचन अरोड़ा

Share This News

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *