Blog पूरे मानसून सत्र के दौरान संसद के निकट चलेगा “किसान संसद” , दिल्ली के विभिन्न मोर्चों पर पहुंच रहा किसानों का दस्ता: एसकेएम

पूरे मानसून सत्र के दौरान संसद के निकट चलेगा “किसान संसद” , दिल्ली के विभिन्न मोर्चों पर पहुंच रहा किसानों का दस्ता: एसकेएम

Share Via

नई दिल्ली: लोकसभा के एक प्रश्न (नंबर 337) के लिखित जवाब में कल कृषि और किसान कल्याण मंत्री ने बताया कि सरकार ने विरोध प्रदर्शनों को समाप्त करने के लिए कई प्रयास किए हैं। विडंबना यह है कि यह वास्तव में सच है। भाजपा ने, केंद्र और विभिन्न राज्यों में, वास्तव में, विरोध प्रदर्शनों को समाप्त करने, नेताओं पर झूठे मुकदमे लगाने, उन्हें सलाखों के पीछे डालने, विरोध स्थलों की आपूर्ति में कटौती करने, किसान मोर्चा के चारों ओर बैरिकेड्स लगाने के लिए कई प्रयास किए हैं। सरकार ने किसानों को बदनाम करने की पूरी कोशिश की है। वहीं दूसरी ओर सरकार द्वारा कई सवालों के जवाब में दिए गए अन्य बयान शर्मनाक हैं।

पूरे मानसून सत्र के दौरान संसद के निकट चलेगा किसान संसद

इस बारे में किसान प्रतिनिधियों से औपचारिक बातचीत करने के बावजूद सरकार ने संसद के पटल पर किसान आंदोलन की मांगों को सही ढंग से नहीं रखा। न्यूनतम समर्थन मूल्य पर, संयुक्त किसान मोर्चा ने स्पष्ट रूप से कहा है कि, आंदोलन सभी किसानों के लिए सभी कृषि उपज पर, C2 + 50% फॉर्मूला के साथ घोषित एमएसपी पर, कानूनी गारंटी चाहता है, और इस पर देश में बड़े पैमाने पर बहस हुई है। हालाँकि, भारत सरकार ने इस मांग को “न्यूनतम समर्थन मूल्य पर खरीद से संबंधित मुद्दे” के रूप में प्रस्तुत किया।

दिल्ली के विभिन्न मोर्चों पर पहुंच रहा किसानों का दस्ता: एसकेएम

सिरसा में सरदार बलदेव सिंह सिरसा का अनिश्चितकालीन अनशन पांचवें दिन में प्रवेश कर गया। जैसा कि पहले घोषित किया गया था, प्रदर्शनकारियों ने आज सुबह दो घंटे के लिए तीन अलग-अलग बिंदुओं पर राजमार्ग को जाम किया। किसानों ने भावदीन और खुईयां मलकाना के टोल प्लाजा​ सहित गांव पंजुआना के नजदीक नेशनल हाईवे जाम लगा दियाI ​किसानों ने सुबह 9 बजे से लेकर 11 बजे तक जाम लगाया I एसकेएम की मांग है कि सरकार मामले वापस ले और गिरफ्तार साथियों को तुरंत रिहा करे। रिपोर्ट- स्वाति सिंह

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

अन्य खबरें