गीत चोरी का आरोप झेल रहे मशहूर गीतकार ने किया दावा, कहा- ‘तेरी मिट्टी कॉपी निकला तो हमेशा के लिए छोड़ दूंगा लिखना।‘

बॉलीवुड। पॉप सांग, रिमिक्स के जमाने में तेरी गलियां, ओ हमसफ़र, तेरी मिट्टी जैसे शानदार और ख़ूबसूरत गीत लिखने वाले मनोज मुंतशिर को इन दिनों सोशल मीडिया पर ख़ूब ट्रोल किया जा रहा है। उन पर कविता चुराने का आरोप लगाया गया है।

रॉबर्ट जे. लेवरी की कविता  का अनुवाद है ‘मुझे कॉल करना’

दरअसल साल 2019 में उन्होंने ‘मेरी फितरत है मस्ताना’ के नाम से अपनी कविता की एक किताब पब्लिश करवाई थी, जिसे पाठकों ने ख़ूब पसंद किया था। लेकिन आज उसी किताब की एक कविता ‘मुझे कॉल करना’ को अंग्रेजी लेखक रॉबर्ट जे. लेवरी की कविता बताया जा रहा है। कहा जा रहा है कि मनोज ने 2007 में ‘कॉल मी’ नाम से छपी कविता का हिंदी अनुवाद करके ‘मुझे कॉल करना’ कविता के रूप में अपने नाम से छपवा दी, जिसे लेकर काफी विवाद हो रहा है।

मनोज के ‘तेरी मिट्टी’ गाने को भी  बताया गया कॉपी

मनोज के बारे में इस तरह की ख़बर आने के बाद लोगों ने उनके अन्य गानों को भी कॉपी बताना शुरू कर दिया और देशभक्ति से परिपूर्ण गाना तेरी मिट्टी को भी चोरी का बता दिया। सोशल मीडिया यूज़र्स उस गाने को पाकिस्तान का गाना बताने लगे। उनका कहना है कि ये गाना 2005 में पाकिस्तान की एक गायिका ने गाया है।

‘राष्ट्रवादी होने की दी जा रही है सजा’- मनोज मुंतशिर

वहीं मनोज मुंतशिर ने इन आरोपों को सिरे से ख़ारिज करते हुए कहा कि ‘अगर उनका गाना ‘तेरी मिट्टी’ किसी भी गाने की नकल निकला तो वो हमेशा के लिए लिखना छोड़ देंगे’ उन्होंने एक इंटरव्यू में कहा कि उन्हें राष्ट्रवादी होने की सजा दी जा रही है।‘

मनोज का कहना है कि ‘जो लोग मुझ पर गाना कॉपी करने का आरोप लगा रहे हैं, उन्हें यह इस बारे में जांच कर लेनी चाहिए कि वह वीडियो हमारी फिल्म ‘केसरी’ के रिलीज होने के महीनों बाद अपलोड किया गया है। जिस गाने की बात की जा रही है, उसे पाकिस्तानी सिंगर नहीं बल्कि हमारी अपनी लोक गायिका गीता रबारी ने गाया है।‘

कहीं न कहीं से प्रेरित हैं मेरी कविताएं

उन्होंने आगे कहा, ‘मैंने अपनी कविता और गीतों में जो कुछ भी लिखा है, वह कहीं न कहीं से प्रेरित है, क्योंकि लिखने का और कोई दूसरा तरीका नहीं है। तेरी मिट्टी जैसे देश-प्रेम को जागृत करने वाले गीत पर घिनौनी राजनीति की जा रही है।‘ इसके पहले 21 सितंबर को उन्होंने ट्रोलर्स को जवाब देने के उद्देश्य से एक ट्वीट करते हुए लिखा था-

“200 पन्नों की किताब और 400 फ़िल्मी-ग़ैर फ़िल्मी गाने मिलाकर सिर्फ़ 4 लाइनें ढूँढ पाए? इतना आलस? और लाइनें ढूँढो, मेरी भी और बाक़ी राइटर्स की भी. फिर एक साथ फ़ुरसत से जवाब दूँगा शुभ रात्रि!”

मुगल शासकों को कहा था डाकू

आपको बता दें कि हाल ही में मनोज मुंतशिर ने एक वीडियो शेयर किया था, जिसमें उन्होंने मुगल शासकों, अकबर, जहांगीर और हुमायूं को डाकू कहा था। उनका मुगल विरोधी वीडियो सामने आने के बाद उन्हें कई फिल्मी सितारों की आलोचना भी झेलनी पड़ी थी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *