Advertisement

माता-पिता के 15 सालों की चर्चा करने से क्यों परहेज करते हैं तेजस्वी: उमेश सिंह कुशवाहा

Umesh ask to Tejashwi

Umesh ask to Tejashwi

Share
Advertisement

Umesh ask to Tejashwi: पटना में बिहार जदयू के प्रदेश अध्यक्ष उमेश सिंह कुशवाहा ने कहा कि चुनाव के दौरान कोई भी राजनीतिक दल अपनी उपलब्धियों को जनता के बीच प्रमुखता से रखता है. अपने किए गए कामों के आधार पर जनता से वोट माँगता है. राजद शायद देश-दुनिया की एकलौती ऐसी राजनीतिक पार्टी है जो चुनाव में अपने 15 सालों के कार्यकाल की चर्चा करना मुनासिब नहीं समझती है।उमेश सिंह कुशवाहा ने पूछा कि आखिर क्या वजह है कि तेजस्वी प्रसाद यादव चुनावी भाषणों में अपने माता-पिता के शासनकाल की चर्चा करने से परहेज करते हैं। तेजस्वी प्रसाद यादव लगातार विभिन्न क्षेत्रों में जनसभा को संबोधित कर रहे हैं लेकिन उनके मुख से राजद के 15 सालों की उपलब्धियों को जानने के लिए आम जनता के कान तरस गए हैं।

Advertisement

यह एक प्रकार से राजद की आत्म-स्वीकृति है कि लालू-राबड़ी का शासनकाल पूरे तौर पर असफल रहा। प्रदेश अध्यक्ष ने कहा कि राजद के जंगलराज में सरकार संरक्षित अपराधियों द्वारा रंगदारी और लूट की घटनाओं के कारण बिहार में कई कल-कारखाने बंद हुए। नतीजतन प्रदेश के लोगों को जीवनयापन के लिए पलायन करने पर मजबूर होना पड़ा। तेजस्वी प्रसाद यादव रोजगार पर लच्छेदार भाषण देते हैं लेकिन बिहार की जनता को यह नहीं बताते कि कल-कारखानों को बंद करवाकर युवाओं का रोजगार छीनने में सबसे बड़ी भूमिका उनके माता-पिता की रही है।

साथ ही उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के कुशल नेतृत्व के कारण आज बिहार की कानून-व्यवस्था सदृढ़ होने से देश-दुनिया के निवेशक बिहार आ रहे हैं और नए-नए उद्योग लग रहे हैं। राजद के समय में बीमारू राज्य वाला बिहार आज देश में सबसे अधिक विकास दर से आगे बढ़ने वाला राज्य बना है। लालू-राबड़ी के शासन में बिहार का बेड़ा गर्क हुआ इसलिए राजद के लोग जनता के बीच 15 सालों की चर्चा करने से बचते हैं।

रिपोर्टः सुजीत श्रीवास्तव, ब्यूरोचीफ, बिहार

यह भी पढ़ें: बागी तेवर: ‘मैं ही रहूंगा बक्सर में, अश्वनी चौबे का राजनीतिक उत्तराधिकारी केवल अश्वनी चौबे’

Hindi Khabar App: देश, राजनीति, टेक, बॉलीवुड, राष्ट्र,  बिज़नेस, ज्योतिष, धर्म-कर्म, खेल, ऑटो से जुड़ी ख़बरों को मोबाइल पर पढ़ने के लिए हमारे ऐप को प्ले स्टोर से डाउनलोड कीजिए. हिन्दी ख़बर ऐप

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *