Advertisement

Jharkhand: महादेव और मां काली को प्रसन्न करने के लिए श्रद्धालुओं की ‘अग्निपरीक्षा’

Jharkhand News

Jharkhand News

Share
Advertisement

Jharkhand News: वो अंगारों पर ऐसे चल रहे थे मानों राह में फूल बिछे हों. आस्था की शीतलता इतनी सघन थी कि अंगारों की तपिश उनके पांव को छू तक नहीं पा रही थी. यह हठयोग यूं ही नहीं किया जा रहा था. उसके लिए वो तीन दिनों तक बिना अन्न और फलाहार के थे. सिर्फ जल और शर्बत के माध्यम से तीन दिन तक वे ब्रह्मचर्य का पालन करते हुए अपने शरीर को इस कठिन तप के लिए तैयार कर रहे थे. आस्था का यह पर्व था चरक पूजा. इस पूजा के अवसर पर यह अद्भुत नजारा था बासुकीनाथ स्थित चरकनाथ थान का.   

Advertisement

बासुकीनाथ स्थित चरकनाथ थान में बड़ी ही धूमधाम के साथ चरक पूजा संपन्न हुई. चरक पूजा, भगवान शिव और माता काली को समर्पित है. इस पूजा में श्रद्धालु भोलेनाथ का आशीष पाने के लिए हठयोग करते हैं। चरक पूजा करने वाले श्रद्धालु तीन दिनों तक जल और शर्बत ही ग्रहण करते हैं. यहां तक कि श्रद्धालु इन तीन दिनों तक फलहार भी नहीं लेते है. पूर्ण ब्रह्मचर्य का पालन करते हैं.

परंपरानुसार हर वर्ष चरक पूजा 13 अप्रैल से शुरू होकर 15 अप्रैल तक चलती है..चरकनाथ की पूजा से पूर्व श्रद्धालुओं द्वारा भिक्षाटन किया जाता है। सुख, समृद्धि एवं भगवान शिव को प्रसन्न करने हेतु श्रद्धालु पर्व के आखिरी दिन सुबह जलते हुए अंगारों पर नंगे पांव चलते हैं. मान्यता है कि जो भी श्रद्धालु नियम निष्ठा से इस पर्व को करता है उसे अग्नि छू तक नहीं पाती. नियम निष्ठा का पालन करके आचार विचारों में शुद्धि व संयम रखते हुए इस त्योहार को मनाया जाता है।

रिपोर्टः सुतिब्रो गोस्वामी, संवाददाता, दुमका, झारखंड

यह भी पढ़ें: Bihar: बंद मकान में चोरों का धावा, आठ लाख की नकदी और आभूषण चोरी

Hindi Khabar App: देश, राजनीति, टेक, बॉलीवुड, राष्ट्र,  बिज़नेस, ज्योतिष, धर्म-कर्म, खेल, ऑटो से जुड़ी ख़बरों को मोबाइल पर पढ़ने के लिए हमारे ऐप को प्ले स्टोर से डाउनलोड कीजिए. हिन्दी ख़बर ऐप

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

अन्य खबरें