Advertisement

‘मुस्लिम-यादव मित्रों का स्वागत, आइए, चाय पीजिए, मिठाई खाइए…, मैं आपका काम नहीं करूंगा’

Devesh Chandra Thakur Said

Devesh Chandra Thakur Said

Share
Advertisement

Devesh Chandra Thakur Said:  जेडीयू से सांसद देवेशचंद्र ठाकुर ने एक सभा में कहा कि मेरे दरवाजे पर मुसलमानों और यादवों का स्वागत है. आइए, मैं आपको मिठाई खिलाऊंगा, चाय पिलवाउंगा, आप का सम्मान करूंगा लेकिन काम के लिए मत बोलिए. मैं आपका काम नहीं करूंगा. अपना दर्द जाहिर करते हुए सांसद जी ने कहा कि मैंने मुसलमानों-यादवों के लिए व्यक्तिगत रूप से कई कार्य किए लेकिन फिर भी वोट जेडीयू को नहीं मिला.

Advertisement

उन्होंने कहा कि यदि उन्हें तीर का बटन दबाते हुए मोदी जी का चेहरा दिखता है तो फिर जब वो मेरे पास आते हैं तो मैं उनमें लालू जी का चेहरा क्यों न देखूं. उन्होंने कहा कि क्या आपने जेडीयू को वोट इसलिए नहीं दिया कि हम बीजेपी के साथ थे? मोदी जी जो राशन योजना चला रहे हैं क्या उसका लाभ इस वर्ग को नहीं मिलता. क्या कोविड की दवाओं और वैक्सीन का लाभ इन्हें नहीं मिला. सबको मिला, बिना भेदभाव के मिला फिर ऐसा क्यों? उन्होंने कहा कि एनडीए के वोटों में से कितने वोटों का हरण हुआ इसका कोई कारण नहीं है. कोई कारण हो तो बताइए. कोई उचित कारण नहीं है.

सीतामढ़ी के नवनिर्वाचित जेडीयू सांसद देवेशचंद्र ठाकुर सीतामढ़ी में आयोजित एक कार्यक्रम में खुले मंच से बोल रहे थे. उन्होंने कहा कि सुरी और कलवार समाज का आधे से अधिक वोट कटा, कोई कारण हो तो बताइए?. कुशवाहा समाज जो एनडीए का वोट था वो भी कटा. क्या कुशवाहा समाज स्वार्थी हो गया है. क्या वो लालू जी द्वारा कुशवाहा समाज के सात लोगों को टिकट देने से खुश हो गए थे?. समाज के मतदाता यदि एनडीए का साथ देते तो उपेंद्र कुशवाहा एक केंद्रीय मंत्री होते.

उन्होंने कहा कि अगर कुशवाहा समाज से पांच या सात एमपी बन भी जाते तो क्या सीतामढ़ी के कुशवाहा समाज के लोग उनसे काम करवाने जाते? वह बोले… इनकी सोच कितनी विकृत हो गई. अगर कह दूं कि कुशवाहा समाज के लोग अपना काम कराने के लिए लालू प्रसाद से सात कुशवाहा उम्मीदवारों के पास जाएं तो कैसा लगेगा.

रिपोर्टः आनंद बिहारी सिंह, संवाददाता, सीतामढ़ी, बिहार

यह भी पढ़ें: पति को थाने ले गई पुलिस, देर रात तक नहीं लौटा तो पत्नी ने खाया जहर

Hindi Khabar App: देश, राजनीति, टेक, बॉलीवुड, राष्ट्र,  बिज़नेस, ज्योतिष, धर्म-कर्म, खेल, ऑटो से जुड़ी ख़बरों को मोबाइल पर पढ़ने के लिए हमारे ऐप को प्ले स्टोर से डाउनलोड कीजिए. हिन्दी ख़बर ऐप

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *