महाराष्ट्र में राहुल नार्वेकर चुने गए नए विधानसभा अध्यक्ष, अब ससुर-दामाद के हाथों में विधानसभा और विधान परिषद की कमान

महाराष्ट्र में सियासी उठा पटक खत्म होने के बाद अब करीब 2.5 साल बाद भाजपा और शिंदे समर्थन वाली सरकार बन गई है। इसी के साथ आज महाराष्ट्र विधानसभा में दो दिन का विशेष सत्र बुलाया गया है। इस विशेष सत्र में शिंदे सरकार को अपना बहुमत साबित करना होगा और उसी के साथ नए विधानसभा अध्यक्ष का चुनाव। अब ऐसे में बता दें आज राहुल नार्वेकर को महाराष्ट्र विधानसभा का नया अध्यक्ष चुन लिया गया है।

यह भी पढ़ें: Jammu Kashmir में दो आतंकियों को ग्रामीणों ने पकड़ा, उपराज्यपाल ने 5 लाख के इनाम की घोषणा की

इसी के साथ भाजपा के विधायक नार्वेकर ने महाविकास अघाड़ी के उम्मीदवार राजन सालवी को मात दी है। इसी के साथ महाराष्ट्र की राजनीति में यह पहली बार हुआ है कि जब विधानसभा और विधान परिषद की जिम्मेदारी दामाद और ससुर के पास मिल गई है। लेकिन खास बात यह है कि दोनों राजनीतिक विरोधी भी हैं।

कौन हैं राहुल नार्वेकर?

महाराष्ट्र के नए विधानसभा अध्यक्ष राहुल नार्वेकर बन गए हैं। इसी के साथ उन्हें भाजपा और शिवसेना के एकनाथ शिंदे गुट ने अपना प्रत्याशी बनाया था। अगर हम राहुल नार्वेकर कि राजनीतिक सफर की बात करें तो उन्होंने अपनी राजनीति कि शुरुआत शिवसेना से की और युवा शाखा के प्रवक्ता बने थे। हालांकि उन्होंने 15 साल तक शिवसेना में रहने के बाद 2014 लोकसभा चुनाव के दौरान एनसीपी में शामिल हो गए थे। लेकिन स दौरान चुनाव में मिली हार के बाद उन्होंने साल 2019 में भाजपा का दामन थाम लिया। जिसके बाद वो कोलाबा से विधायक चुने गए। बता दें 45 वर्ष के राहुल नार्वेकर पेशे से वकील है।

हालांकि राहुल नार्वेकर एनसीपी के वरिष्ठ नेता और विधान परिषद अध्यक्ष रामराजे निंबालकर के दामाद भी है। फिलहाल रामराजे निंबालकर इस वक्त महाराष्ट्र विधान परिषद के अध्यक्ष हैं। बता दें रामराजे NCP चीफ शरद पवार के करीबी बताए जाते हैं। 2015 में वह विधान परिषद के अध्यक्ष चुने गए थे। जिसके बाद वो 2016 में दोबारा निर्वाचित हुए।

यह भी पढ़ें: BMC चुनाव में क्या शिंदे ढहा पाएंगे शिवसैनिकों का राजनीतिक किला?

Share This News

Leave a Reply

Your email address will not be published.