Advertisement

अनोखा इश्क: करोड़पति लड़की की दसवीं पास से मोहब्बत, अब लड़का है कैबिनेट मिनिस्टर और लड़की है मेयर

Share
Advertisement

Valentine Day Special: आज वेलेंटाइन-डे है यानि प्यार के नाम पर मनाया जाने वाला दिन। आज हम बात करेंगे एक ऐसे जोड़े की जिन्होंने जात-पात और धार्मिक सामाजिक बंधनों की परवाह किए बिना प्रेम किया और एक सफल वैवाहिक जीवन बिता रहे हैं। उत्तर प्रदेश के औद्योगिक विकास मंत्री नंद गोपाल नंदी और प्रयागराज की मेयर अभिलाषा मिश्रा की कहानी भी कुछ ऐसी ही है।

Advertisement

पड़ोसी थे अभिलाषा और नंदी

अभिलाषा का घर नंदी के घर से महज 500 मीटर की दूरी पर था। आपको बता दें कि सरकार में मंत्री नंद गोपाल गुप्‍ता नंदी वैश्‍य हैं। तो वहीं, उनकी पत्‍नी अभिलाषा ब्राह्मण परिवार से संबंध रखती हैं। नंद गोपाल गुप्‍ता ने यह बात खुद बताई थी कि बचपन में उनका परिवार आर्थिक रूप से समृद्ध नहीं था। वहीं, अभिलाषा का परिवार संभ्रांत था।

व्यापार के समय हुआ था प्यार

नंदी बचपन से ही बड़ा आदमी बनने का सपना देखते थे। नंद गोपाल गुप्‍ता नंदी दसवीं की पढ़ाई के बाद इलाहाबाद के बहादुरगंज की गलियों में बच्‍चों को ब्‍लैक एंड व्‍हाइट टेलीविजन पर फिल्म दिखाया करते थे। इससे जो पैसा मिलता उससे वह गुजारा करते थे। व्‍यापार के समय ही नंद गोपाल गुप्‍ता को अभिलाषा से प्‍यार हो गया। आपक बता दें कि उस समय अभिलाषा MA की पढ़ाई कर रही थीं।

घर से भागकर की थी शादी

अभिलाषा ब्राह्मण परिवार से थी और नंदी वैश्य। इसलिए उनके परिजनों ने अभिलाषा की शादी नंदी से कराने से इनकार कर दिया। करीब 2 साल तक प्रेम संबंध में रहने के बाद वर्ष 1995 में दोनों ने घर से भागकर शादी कर ली। रिश्ता मंजूर ना होने के कारण घर वालों ने उनसे संबंध खत्म कर लिए।

ऐसे चमकी राजनितिक किस्मत

शादी के कुछ समय बाद नंद गोपाल गुप्‍ता नंदी ने राजनीति का दामन थाम लिया। आपको बता दें कि नंदी पहली बार 2009 में BSP के टिकट से विधानसभा चुनाव जीते। इस चुनाव में नंदी ने BJP के दिग्‍गज नेता केशरी नाथ त्रिपाठी और कांग्रेस की डॉ. रीता बहुगुणा जोशी जैसे नेताओं को हराकर राजनीति में अपना नाम दर्ज कराया। बता दें कि नंद गोपाल गुप्‍ता नंदी यूपी सरकार में मंत्री हैं तो वहीं, अभिलाषा दूसरी बार प्रयागराज की मेयर बनी हैं।

ये भी पढ़ें : 22 जुलाई: भारत का राष्ट्रीय ध्वज अंगीकरण दिवस, बड़ी दिलचस्‍प है तिरंगे के राष्‍ट्रध्‍वज बनने की कहानी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *