Advertisement

दिल्ली HC में समान नागरिक संहिता से जुड़ी याचिकाएं खारिज, कोर्ट बोला- विधि आयोग इस पर काम कर रहा

Share
Advertisement

शुक्रवार (1 दिसंबर) को दिल्ली हाईकोर्ट ने UCC को लेकर लगाई गई सभी याचिकाओं पर सुनवाई करने से इनकार कर दिया। इनमें केंद्र और विधि आयोग को समान नागरिक संहिता (UCC) का मसौदा बनाने और उसे तत्काल लागू करने के लिए निर्देश देने की मांग की गई थी।

Advertisement

जस्टिस मनमोहन और जस्टिस मिनी पुष्करणा ने दलील सुनने के बाद कहा कि भारत का विधि आयोग पहले से ही इस मुद्दे पर काम कर रहा है और हम संसद को अलग से कानून बनाने का आदेश नहीं दे सकते।

इससे पहले भी दिल्ली हाईकोर्ट ने 21 नवंबर को एक्टिंग चीफ जस्टिस मनमोहन की बेंच ने कहा था- मार्च में सुप्रीम कोर्ट इस पर सुनवाई से इनकार कर चुका है। अब हम कुछ नहीं कर सकते।

सुप्रीम कोर्ट में वकील अश्विनी कुमार उपाध्याय ने जेंडर न्यूट्रल और रिलीजन न्यूट्रल कानूनों के लिए याचिका दायर की थी। हाईकोर्ट में याचिका दायर करने वालों में भी उपाध्याय शामिल हैं।

केंद्र ने कहा- कोर्ट कानून बनाने के लिए निर्देश नहीं दे सकता

केंद्र सरकार ने सुनवाई के दौरान अपना पक्ष रखते हुए कहा कि कानून बनाना या नहीं बनाना विधायिका का काम है। जनता ने अपने निर्वाचित प्रतिनिधि चुने हैं। कोर्ट इस बारे में कोई निर्देश नहीं दे सकता है।

केंद्र ने कहा कि याचिकाकर्ताओं ने जो राहत की मांग की है, वह न तो कानून के अनुरूप थी और न ही तथ्यात्मक थी। इसलिए इसे निकाल सकते हैं। साथ ही याचिका में कोई तथ्य नहीं है जो प्रभावित व्यक्ति को अदालत का दरवाजा दिखाता है।

याचिकाकर्ताओं ने यह मांगें रखी थीं…

  • तीन महीने के भीतर UCC का मसौदा तैयार करने के लिए विधि आयोग को निर्देश दिया जाए।
  • विवाह की समान न्यूनतम आयु को UCC में शामिल किया जाए।
  • तलाक, भरण-पोषण और गुजारा भत्ता का आधार, गोद लेना और कस्टडी, तीन महीने के भीतर उत्तराधिकार और विरासत पर सार्वजनिक विचार-विमर्श के लिए वेबसाइट बनाई जाए।

सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई स्थगित करने के कारण

सुप्रीम कोर्ट ने याचिकाओं पर आगे की सुनवाई स्थगित कर दी क्योंकि याचिकाकर्ताओं की ओर से कोई मौजूद नहीं था। याचिकाकर्ता के वकील अश्विनी कुमार उपाध्याय ने सुप्रीम कोर्ट में अपनी याचिका में जिन दस्तावेजों का उल्लेख किया था, उन दस्तावेजों को भी कोर्ट में पेश नहीं कर पाए।

ये भी पढ़ें: Mizoram: मतगणना की तारीख बदली, अब 4 दिसंबर को होगी काउंटिंग, ईसाई समुदाय की मांग पर फैसला

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *