Advertisement

युवाओं को भड़काने, कट्टरपंथी बनाने का आरोप, NIA ने राजस्थान में PFI ठिकानों पर छापा मारा

Share
Advertisement

प्रतिबंधित पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया (पीएफआई) पर अपनी कार्रवाई जारी रखते हुए, राष्ट्रीय जांच एजेंसी के अधिकारी राजस्थान में सात स्थानों पर छापेमारी कर रहे हैं। पीएफआई साजिश मामले में कोटा जिले में तीन, सवाई माधोपुर, भीलवाड़ा, बूंदी और जयपुर में एक-एक तलाशी ली गई।

Advertisement

ये स्थान मामले में संदिग्धों के आवासीय और व्यावसायिक परिसर हैं, जिन्हें शुरू में 19 सितंबर, 2022 को एनआईए द्वारा स्वत: संज्ञान में दर्ज किया गया था।

सूत्रों ने बताया कि सभी आरोपी कथित रूप से भारत विरोधी गतिविधियों में शामिल हैं। उन्होंने कहा कि यह आरोप लगाया गया है कि उनमें से ज्यादातर युवाओं को भड़काने और उन्हें कट्टरपंथी बनाने में शामिल हैं। तलाशी के दौरान डिजिटल उपकरण, एयर गन, धारदार हथियार और आपत्तिजनक दस्तावेज जब्त किए गए। मामले में आगे की जांच की जा रही है।

सूत्रों के मुताबिक एनआईए ने कोटा में साइंस नगर स्थित हाफिज अबरार समेत तीन लोगों के यहां छापेमारी की है। सूत्रों ने कहा कि इमरान रंगरेज के रूप में पहचाने गए एक व्यक्ति के भीलवाड़ में छापा मारा गया है। इस बीच, NIA ने पीएफआई के पूर्व अध्यक्ष मोहम्मद नदीम के घर पर छापा मारा।

एजेंसी ने कहा कि उन्हें सूचना मिली थी कि सादिक सर्राफ, मोहम्मद आसिफ के साथ पीएफआई के पदाधिकारी, सदस्य और कार्यकर्ता गैरकानूनी गतिविधियों में शामिल हैं।

केंद्र ने सितंबर 2022 में पीएफआई और उसके कई सहयोगियों पर सख्त आतंकवाद विरोधी कानून के तहत पांच साल के लिए प्रतिबंध लगा दिया था, उन पर आईएसआईएस जैसे वैश्विक आतंकवादी समूहों के साथ संबंध रखने और देश में सांप्रदायिक नफरत फैलाने की कोशिश करने का आरोप लगाया था।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *