International Yoga Day 2022: कब से की गई योग दिवस की शुरुआत? जानें इसका इतिहास

भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (International Yoga Day 2022) ने 27 सितंबर 2014 को संयुक्त महासभा में दुनियाभर में योग दिवस मनाने का आह्वान किया था।

Share This News
International Yoga Day 2022

International Yoga Day 2022: हर साल 21 जून अंतरराष्ट्रीय योग दिवस के रूप में मनाया जाता है। दुनिया के तमाम देश योग के महत्व को समझते हुए योग दिवस को मनाते हैं। योग का अभ्यास केवल शरीर को ही स्वस्थ नही रखता बल्कि मस्तिष्क को शांति पहुंचाता है। योग सेहत के लिए तो फायदेमंद है ही अंतरमन की शांति के लिए भी फायदेमंद है। योग से शरीर रोगमुक्त रहता है और मन को शांति भी पहुंचाता है। भारत में ऋषि मुनियों के दौर से योग होता चला आ रहा है। योग भारतीय संस्कृति को भी जोडता है, योग की महत्ता अब विदेशों में भी फैल गयी है।

योग अंतरमन की शांति के लिए फायदेमंद

योग के विदेशों में (International Yoga Day 2022) प्रसारित करने का श्रेय हमारे योग गुरुओं को जाता है, जिन्होंने विदेशी जमीन पर योग की उपयोगिता और महत्व के बारे में बताया। लेकिन क्या आपको पता है कि हर साल योग दिवस मनाने की शुरुआत कब से और कैसे हुई? अंतरराष्ट्रीय योग दिवस के मौके पर योग के इतिहास और योग के विश्व प्रसिद्ध होने के बारे में चलिए बताते हैं आपको?

कब से की गई योग दिवस की शुरुआत?

आज विश्व भर में लोग स्वस्थ रहने के (International Yoga Day 2022) लिए योगाभ्यास कर रहे हैं। योग का महत्व कोरोना काल में और अधिक बढ़ गया। जब कोविड लॉकडाउन के दौरान लोग घरों से बाहर नहीं निकल सकते थे। जिम बंद हो गए थे तब लोगों ने मन को शांत रखने और शरीर को स्वस्थ बनाए रखने के लिए घर पर ही योगाभ्यास किया। ऑनलाइन के जरिए भी योग के जरिये लोगों को स्वस्थ रहने के तरीके भी बताए गए, जिससे की कोरोना काल में भी लोग शारीरिक रूप से तो स्वस्थ रहें ही साथ ही साथ मस्तिष्क रूप से भी स्वस्थ रह सकें। लेकिन क्या? आप जानते हैं कि इस दिन को अंतरराष्ट्रीय स्तर पर मनाने की शुरुआत साल 2015 में हुई। जब पहली बार पूरी दुनिया में योग दिवस एक साथ मनाया गया।

योग दिवस पहली बार कब मनाया गया

भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (International Yoga Day 2022) ने 27 सितंबर 2014 को संयुक्त महासभा में दुनियाभर में योग दिवस मनाने का आह्वान किया था। पीएम मोदी के प्रस्ताव को संयुक्त राष्ट्र महासभा ने इसे स्वीकार भी किया गया महज तीन महीने के अंदर अंतरराष्ट्रीय योग दिवस के आयोजन का ऐलान कर दिया गया। अगले ही साल 2015 में पहली बार विश्व योग दिवस दुनिया भर में मनाया गया।

क्यों 21 जून को ही मनाया जाता है योग दिवस?

साल 2015 में 21 जून को योग दिवस मनाने का फैसला लिया गया। सवाल है कि 21 जून को ही योग दिवस क्यों मनाया जाता है? इसके पीछे एक खास वजह है। कहा जाता है कि 21 जून को उत्तरी गोलार्द्ध का सबसे लंबा दिन होता है, जिसे लोग ग्रीष्म संक्रांति भी कहते हैं। भारतीय परंपरा के मुताबिक, ग्रीष्म संक्रांति के बाद सूर्य दक्षिणायन होता है। माना जाता है कि सूर्य दक्षिणायन का समय आध्यात्मिक सिद्धियां प्राप्त करने के लिए फायदेमंद है। इसी वजह से 21 जून को अंतरराष्ट्रीय योग दिवस मनाया जाने लगा।

Share This News

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *