Advertisement

कांग्रेस राज में सैंकड़ों किसानों ने कर्ज से तंग होकर की आत्महत्या : शेखावत

Share
Advertisement

Rajasthan: जयपुर में बीजेपी मीडिया सेंटर पर केंद्रीय जलशक्ति मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत ने प्रेसवार्ता की। शेखावत ने कांग्रेस पार्टी के घोषणा पत्र को झूठ का पुलिंदा बताया। उन्होंने कहा कि कांग्रेस ने 15 वर्ष तक शासन किया। और 3 बार एक ही व्यक्ति को सीएम बनाया। किंतु, प्रदेश को रेप कैपिटल बनाने, किसानों की जमीनें नीलाम करने और युवाओं से पेपर लीक के नाम पर छलावा करने के अलावा इन्होंने कुछ भी नहीं किया। शेखावत ने कहा कि कांग्रेस राज में सैंकड़ों किसानों ने कर्ज से तंग होकर आत्महत्या कर ली।

Advertisement

कांग्रेस ने अपनी पिछली घोषणाएं नहीं की हैं पूरी

कांग्रेस पार्टी ने 2018 में 44 पेज का घोषणा पत्र जारी किया था। इसमें जो वादे और घोषणाएं की गईं थीं उनमें से एक भी पूरी नहीं की गईं। इसलिए, इस बार 85 पेज का घोषणा पत्र लेकर आए हैं। 2023 के घोषणा पत्र पर कांग्रेस ने लिखा है कि हमने 2018 के घोषणा पत्र में किए गए 96 फीसदी पूरे किए हैं। इससे आप समझ सकते हैं कि झूठ की शुरूआत प्राक्कथन से ही कर दी गई है।

किसानों को मुआवजा नहीं दिया गया

शेखावत ने कहा कि कांग्रेस ने 2018 में दस दिन में किसानों का संपूर्ण कर्जा माफ करने का वादा किया था। किंतु, जो हुआ वह आपके सामने है। राज्य के 20 हजार से ज्यादा किसानों की जमीनें नीलाम की गई। और सैंकड़ों किसानों ने कर्ज से तंग होकर आत्महत्या कर ली। किसानों को फसल खराबे का मुआवजा देने की बात कही थी। किंतु, कोई मुआवजा नहीं दिया गया। कांग्रेस ने कहा था कि किसानों की फसल का उचित मूल्य दिलाएंगे। जबकि, राज्य के किसानों को बाजरा बेचने के लिए हरियाणा जाना पड़ा।

किसानों से किया गया वादा खोखला निकला

वृद्ध किसानों को पेंशन देना किसानों को कृषि कार्य के लिए बिजली की आपूर्ति सुनिश्चित करना और गुणवत्तायुक्त बिजली उपलब्ध कराने का वादा भी पूरी तरह खोखला निकला।

यह भी पढ़ें – शराबबंदीः सुशील मोदी ने प्रदेश सरकार और पुलिस पर उठाए सवाल

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *