संजय राउत की जमानत पर सुनवाई 10 अक्टूबर तक स्थगित

संजय राउत जमानत

धन शोधन निवारण अधिनियम (PMLA) की एक विशेष अदालत ने मंगलवार को शिवसेना सांसद संजय राउत की जमानत याचिका पर सुनवाई 10 अक्टूबर तक के लिए स्थगित कर दी।

राउत को पात्रा चावल भूमि घोटाला मामले में उनकी कथित संलिप्तता के लिए गिरफ्तार किया गया था। समाचार एजेंसी यूएनआई की रिपोर्ट के अनुसार, न्यायाधीश एम जी देशपांडे उस दिन मामले की सुनवाई करेंगे।

शिवसेना नेता संजय राउत ने तर्क दिया कि उनसे अब पूछताछ की आवश्यकता नहीं है और इसलिए उसे जमानत पर रिहा किया जाना चाहिए। उन्होंने किसी भी तरह की गड़बड़ी से इनकार किया है।

अभियोजन पक्ष का तर्क है कि राउत जमानत के लायक नहीं हैं।

क्या है पात्रा चॉल घोटाला?

मुंबई के गोरेगांव उपनगर में, 500 से अधिक परिवार महाराष्ट्र हाउसिंग एंड एरिया डेवलपमेंट अथॉरिटी (म्हाडा) में 47 एकड़ जमीन पर टिन की पेटी वाली चॉल (खोली) बनाकर रहते थे।

2007 में इस भूखंड पर एक फ्लैट बनाने और वहां पहले से रहने वाले परिवारों को देने और बाकी फ्लैट को म्हाडा और इसे विकसित करने वाली कंपनी को स्थानांतरित करने की योजना बनाई गई थी।

प्लॉट पर फ्लैट बनाने का काम गुरु आशीष कंस्ट्रक्शन कंपनी को दिया गया था। इस कंपनी के साथ हुए समझौते के मुताबिक प्लॉट पर कुल 3,000 फ्लैट बनने थे। इनमें से 672 फ्लैट पहले से ही चॉल में रहने वाले परिवारों को दिए जाने थे।

निर्माण कंपनी को भूखंड बेचने का कोई अधिकार नहीं था। आरोप है कि नौ अलग-अलग बिल्डरों को समझौते का उल्लंघन कर 1,034 करोड़ रुपये में जमीन बेची गई और एक भी फ्लैट नहीं बनाया गया। कंपनी के निदेशकों ने भूखंड की बिक्री से प्राप्त धन में से कुछ अपने करीबी लोगों को स्थानांतरित कर दिया।

इस दौरान गुरु आशीष कंस्ट्रक्शन कंपनी के निदेशक प्रवीण राउत की पत्नी माधुरी राउत के खाते से संजय राउत की पत्नी वर्षा राउत के खाते में 55 लाख रुपये ट्रांसफर किए गए।

यह बात 2020 में महाराष्ट्र में पीएमसी बैंक घोटाले के दौरान सामने आई थी। तब से ईडी प्रवीण राउत और माधुरी राउत के अलावा संजय राउत और उनकी पत्नी वर्षा से पूछताछ कर रही है। एजेंसी ने अप्रैल में वर्षा और उसके दो सहयोगियों की करीब 11.15 करोड़ रुपये की संपत्ति कुर्क की थी।

Share This News

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *