ई-नगेट्स गेमिंग ऐप धोखाधड़ी मामला: 5 और गिरफ्तार, मास्टरमाइंड भारत के बाहर

पुलिस अधिकारियों का मानना ​​है कि इस गेमिंग ऐप रैकेट का सरगना देश के बाहर छिपा हो सकता है।

Share This News

ई-नगेट्स गेमिंग ऐप धोखाधड़ी मामला: पश्चिम बंगाल पुलिस ने ई-नगेट्स ऑनलाइन गेमिंग ऐप धोखाधड़ी मामले की जांच करते हुए कोलकाता के पास एक कार्यालय का भंडाफोड़ किया और  इसके तहत पांच और लोगों को गिरफ्तार किया गया। इस गेमिंग ऐप के जरिये कथित तौर पर बड़ी संख्या में लोगों को करोड़ों रुपये की ठगी हुई है।

पुलिस अधिकारियों का मानना ​​है कि इस गेमिंग ऐप रैकेट का सरगना देश के बाहर छिपा हो सकता है।

कोलकाता पुलिस ने बुधवार को छापेमारी की और बिधाननगर के एक कार्यालय से कई सिम बॉक्स, 2000 से अधिक सिम कार्ड, लगभग 3,000 एटीएम कम डेबिट कार्ड और लैपटॉप जब्त किए।

जांच से जुड़े अधिकारी ने बतया, “मामले के सिलसिले में पांच लोगों को गिरफ्तार किया गया है। इससे पहले 23 सितंबर को उत्तर प्रदेश के गाजियाबाद से एक व्यक्ति को गिरफ्तार किया गया था। एक अन्य व्यक्ति, जिसे मास्टरमाइंड माना जाता है, अभी भी फरार है और उसके भारत से बाहर होने का संदेह है, जहां से वह ऑनलाइन गेमिंग ऐप का संचालन कर रहा था।

प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने कोलकाता के गाजियाबाद से गिरफ्तार व्यक्ति के परिसरों पर छापा मारा और 10 सितंबर को वहां से 17.32 करोड़ रुपये नकद जब्त किए जाने के हफ्तों बाद यह घटनाक्रम सामने आया है।

मामले की मनी लॉन्ड्रिंग जांच के तहत ईडी ने बुधवार को ₹12.83 करोड़ की क्रिप्टो करेंसी को फ्रीज कर दिया।
इससे पहले मंगलवार को कोलकाता पुलिस ने मामले की समानांतर जांच में ₹14.53 करोड़ के बिटकॉइन को फ्रीज कर दिया था।

ईडी ने फरवरी 2021 में दर्ज की गई पहली सूचना रिपोर्ट (एफआईआर) के आधार पर प्रिवेंशन ऑफ मनी लॉन्ड्रिंग एक्ट (पीएमएलए) के प्रावधानों के तहत जांच शुरू की।

प्राथमिकी एक निजी बैंक द्वारा दायर शिकायत के आधार पर की गई थी। बाद में सेंट्रल एजेंसी द्वारा गिरफ्तार व्यक्ति के घर से भारी मात्रा में नकदी बरामद होने के बाद कोलकाता पुलिस ने जांच शुरू की।

ऐप को लोगों को धोखा देने के उद्देश्य से डिजाइन किया गया था। प्रारंभिक अवधि के दौरान यूजर्स को कमीशन के साथ रिवॉर्ड दिया गया था और वॉलेट में शेष राशि को परेशानी मुक्त निकाला जा सकता था।

इसने यूजर्स के बीच प्रारंभिक विश्वास का मार्ग प्रशस्त किया और उन्होंने अधिक प्रतिशत कमीशन और अधिक संख्या में खरीद ऑर्डर के लिए बड़ी मात्रा में निवेश करना शुरू कर दिया।

जनता से बड़ी मात्रा में धन इकट्ठा करने के बाद किसी न किसी बहाने से ऐप से अचानक निकासी को रोक दिया गया।

इसके बाद ई-नगेट्स ऐप सर्वर से प्रोफ़ाइल जानकारी सहित सभी डेटा को मिटा दिया गया था।

Share This News

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *