Agneepath Scheme Protest: अग्निपथ योजना से रेलवे को हुआ करोड़ों का नुकसान-अश्विनी वैष्णव

New Delhi: देश में जब से केंद्र सरकार ने अग्निपथ योजना का ऐलान किया है तब से ही कई शहरों में काफी विरोध प्रदर्शन देखने को मिला था। बता दें उसी विरोध प्रदर्शन में देश की संपत्तियों को काफी नुकसान भी पहुंचा था। ऐसे में सेना भर्ती के लिए अग्निपथ योजना के ऐलान के बाद पूरे देश में हुए आंदोलन से भारतीय रेलवे को करोड़ों रुपयों का नुकसान भी हुआ है। अब इस नुकसान की जानकारी आज संसद भवन में केंद्रीय रेलवे मंत्री अश्विनी वैष्णव ने बताया। बता दें केंद्रीय मंत्री ने शुक्रवार को राज्यसभा में जानकारी देते हुए कहा कि अग्निपथ योजना के खिलाफ आंदोलन से रेलवे को 259.44 करोड़ का नुकसान हुआ।

यह भी पढ़ें: CBSE ने घोषित किया 10वीं का रिजल्ट, शामली की दिया नामदेव बनी टॉपर, यहां करें चेक

गौरतलब है कि अग्निपथ योजना को लेकर देश के कई राज्यों में जमकर विरोध प्रदर्शन देखने को मिला था। अग्निपथ के खिलाफ युवाओं के आंदोलन से देशभर में करीब 2000 से ज्यादा ट्रेनों को कैंसिल करना पड़ा था। हालांकि शुक्रवार को रेलमंत्री ने संसद को जानकारी देते हुए कहा कि आदोंलन के दौरान 2,132 ट्रेनों को रद्द भी करना पड़ा है। इस बात की जानकारी रेल मंत्री ने राज्यसभा में एक लिखित जवाब में दिया। उन्होंने बताया कि ये सभी ट्रेने महज एक सप्ताह के अंदर रद्द की गई थीं।

बिहार और तेलंगाना में सबसे ज्यादा हुआ नुकसान

रेलवे के मुताबिक विरोध प्रदर्शन से सबसे ज्यादा नुकसान तेलंगाना और बिहार राज्य में हुआ। यहां करीब एक सप्ताह तक अग्निपथ योजना को लेकर विरोध प्रदर्शन होते रहे। विरोध प्रदर्शन के दौरान सबसे ज्यादा गिरफ्तारियां 1051 दक्षिणी जोन से हुईं है। केंद्रीय मंत्री ने कहा कि आंदोलन के दौरान जो भी ट्रेन रद्द की गईं थी उन्हें बहाल कर दिया गया है। इससे पहले रेलवे मंत्री ने लोकसभा में लिखित में जानकारी देते हुए बताया कि अग्निपथ योजना के खिलाफ जो आंदोलन हुए। उसमें रेलवे परिसरों में जो प्रदर्शन हुए उसकी वजह से दो लोगों की मौत हो गई जबकि 35 लोग घायल हुए।

यात्रियों के रिफंड का डेटा उपलब्ध नहीं

रेल मंत्री ने कहा कि अग्निपथ योजना के लागू होने के बाद इसको लेकर हुए विरोध प्रदर्शन से जो रेल सेवाएं बाधित हुईं। उसके लिए यात्रियों को कितनी राशि दी गई फिलहाल अभी इसका कोई डेटा उपलब्ध नहीं है। उन्होनें बताया कि 14 जून 2022 से लेकर 30 जून 2022 तक ट्रेनों के रद्द होने और आंदोलन के दौरान रेलवे की संपत्ति को नुकसान पहुंचाने के कारण रेलवे को करीब 259.44 करोड़ का नुकसान हुआ है।

यह भी पढ़ें: कानपुर देहात में जालिम डंडेबाज़ टीचर ने छात्र की गर्दन तोड़ी, प्रधानाचार्य ने दिए जांच के आदेश

Share This News

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *