हरी रंग की आंखों का बड़ा ही रोचक रहस्य, जानिए

कहते हैं न दुनियां बड़ी सतरंगी है ये बात बिल्कुल सच है। दुनिया में तरह तरह के लोग मौजूद हैं, जिनकी आंखें नीली हैं, भूरी हैं, लाल हैं, हेजल रंग की हैं। क्या आपको पता है कि दुनिया में कुछ ऐसे भी लोग हैं जिनकी आंखों का रंग हरा है। वर्ल्ड एटल्स के मुताबिक दुनिया में केवल दो प्रतिशत लोग हैं जिनकी आंखों का रंग हरा है। अगर आंखों के रंगों की तुलना करें तो 79 प्रतिशत लोगों की भूरी रंग की आंखें हैं जबकि 8 प्रतिशत लोगों की आंखों का रंग नीला है। वहीं 5 प्रतिशत लोगों की आंखों का रंग हेजल रंग की होती हैं और 5 प्रतिशत लोगों की आंखों का रंग ऐंबर रंग का होता है। जबकि दुनिया की पूरी आबादी में केवल दो प्रतिशत लोगों की हरे रंग की आंखें होती हैं।

कहां-कहां निवास करते हैं हरी आंखों वाले लोग?

हरी आंखों वाले लोग अधिकांश मध्य, पश्चिमी और उत्तरी यूरोप में सबसे आम हैं। हरी आंखें आमतौर पर सेल्टिक या जर्मन वंश की ओर इशारा करती हैं। फिलहाल वे ब्रिटेन, आइसलैंड, नीदरलैंड, स्कॉटलैंड, एस्टोनिया और स्कैंडिनेविया में सबसे अधिक प्रचलित हैं। वास्तव में, ब्रिटेन में स्कॉटलैंड डीएनए द्वारा किए गए एक अध्ययन के अनुसार भूरी आंखें हरे रंग की तुलना में दुर्लभ हैं। वहां 30 प्रतिशत हरे रंग की तुलना में 22 प्रतिशत लोगों की भूरी आंखें होती हैं।

हरे रंग की आंखें दुर्लभता के लिए बैंगनी के बाद दूसरे स्थान पर आती हैं। इस तरह के आंखों के रंग को पिगमेंट, मेलेनिन की एक छोटी मात्रा द्वारा निर्धारित किया जाता है, जो हल्के भूरे या पीले रंग के वर्णक लिपोफासिन (आंख की परितारिका की बाहरी परत में वितरित) के साथ मिलकर आंखों को हरा रंग देता है।हरी आंखों के छोटे बच्चों में दिखने में तीन साल तक का समय लग सकता है, क्योंकि रेले के बिखरने का समय मनुष्यों में बनने और दिखने में समय लगता है।

 हरी आंखें ऐसी दुर्लभ होने के बावजूद, साहित्य और फिल्म में कई पात्रों के पास हैं, शायद रहस्य की भावना व्यक्त करने के लिए वास्तव में, कई शोधकर्ताओं का मानना है कि आंखों का रंग व्यक्तित्व का एक सच्चा संकेतक है।

Share This News

Leave a Reply

Your email address will not be published.