75 सालों में भारत बन चुका है 75,000 स्टार्टअप्स का घर, हर दिन 80 से ज्यादा देश में आते हैं Startup

भारत अपनी आजादी की 75वीं वर्षगांठ मना रहा है, वहीं एक जानने लायक आंकड़ा ये भी है कि देश में इस समय 75,000 स्टार्टअप्स हैं। डिपार्टमेंट फॉर प्रोमोशन ऑफ इंडस्ट्री एंड इंटरनल ट्रेड (DPIIT) ने 75 हजार से अधिक स्टार्टअप्स रिकॉर्ड किए हैं। यह अपने आप में एक मील का पत्थर माना जा रहा है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की कल्पना ने एक्शन प्लान की रखी नींव

15 अगस्त 2015 को लाल किले से स्वतंत्रता दिवस के भाषण के दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने एक नए भारत की कल्पना की थी, जो अपने लोगों की Entrepreneurial Potential के आधार पर थी। 2016 में 16 जनवरी को देश में एक एक्शन प्लान की नींव रखी गई, जिसमें इनोवेशन और स्टार्टअप को बल देने के लिए एक मजबूत इकोसिस्टम बनाया जाना था। इसी वजह से 16 जनवरी को राष्ट्रीय स्टार्टअप दिवस (National Startup Day) के रूप में मनाया जाता है।

भारत हर दिन नए 80 स्टार्टअप वाला देश

भारत करीब 6 सालों में दुनिया का तीसरा सबसे बड़ा इकोसिस्टम बनाने में कामयाब हो पाया है। यह भी दिलचस्प है कि जहां शुरुआती दस हजार स्टार्टअप को 808 दिनों में पहचाना गया, वहीं लेटेस्ट 10 हजार स्टार्टअप्स को केवल 156 दिनों में हासिल किया गया। प्रति दिन 80 से अधिक स्टार्टअप को मान्यता मिलने के साथ भारत दुनिया में ऊंची दर पर स्टार्टअप के लिए जाना जाने वाला देश बन चुका है।

IT इंडस्ट्री में सबसे ज्यादा स्टार्टअप

कुल मान्यता प्राप्त स्टार्टअप्स में से, लगभग 12% IT सर्विसेज में, 9% हेल्थकेयर और लाइफ साइंसेज में, 7% शिक्षा में, 5% व्यावसायिक और वाणिज्यिक सेवाओं में, और 5% कृषि के काम में लगे हैं. भारतीय स्टार्टअप इकोसिस्टम द्वारा अब तक 7.46 लाख नौकरियां पैदा की गई हैं, जो पिछले 6 वर्षों में 110% वार्षिक वृद्धि है. यह तथ्य कि आज हमारे लगभग 49% स्टार्टअप टियर II और टियर III से हैं।

स्टार्टअप इकोसिस्टम बन गया लॉन्च पैड

भारतीय स्टार्टअप इकोसिस्टम देशभर के सभी नए उद्यमियों और नवप्रवर्तकों के लिए लॉन्च पैड के रूप में विकसित हो गया है. इसने पैसा, टैक्स इन्सेंटिव्स, इंटेलेक्चुअल प्रॉपर्टी से जुड़े अधिकारों का समर्थन, सार्वजनिक खरीद, नियामक सुधारों को सक्षम करने, अंतर्राष्ट्रीय उत्सवों और आयोजनों तक पहुंच बनाने के अलावा भी स्टार्ट-अप की मदद की है।

1 अप्रैल 2021 से भारत सरकार द्वारा एक स्टार्ट-अप इंडिया सीड फंड स्कीम (SISFS) लागू की थी, जो DPIIT द्वारा मान्यता प्राप्त स्टार्ट-अप के लिए योग्य विभाग को वित्तीय सहायता प्रदान करती है. यह स्टार्ट-अप को उस स्तर तक पहुंचने में सक्षम बनाता है, जहां वे एंजेल निवेशकों या उद्यम पूंजीपतियों से निवेश जुटाने या कमर्शियल बैंकों या वित्तीय संस्थानों से ऋण लेने में सक्षम हो पाएं। SISFS को पूरे भारत में योग्य इन्क्यूबेटरों के माध्यम से पात्र स्टार्ट-अप को वितरित किया जाता है।

Share This News

Leave a Reply

Your email address will not be published.