Advertisement

USA: अमेरिका ने फिर दिया चीन को करारा झटका, लोअर हाउस में पास हुआ चीन-तिब्बत विवाद विधेयक

USA lower house passed the bill on china-tibbet dispute
Share
Advertisement

USA: अमेरिकी लोअर हाउस यानि की हाउस ऑफ रिप्रेजेंटेटिव्स में शुक्रवार (16 फरवरी) को चीन-तिब्बत विवाद से जुड़ा एक बिल पास हो हुआ है। ये बिल चीन-तिब्बत विवाद को सुलझाने के लिए और चीन की सरकार पर दबाव बनाने के लिए पास किया गया है। अमेरिकी लोअर हाउस से पास होने के बाद अब जल्द ही ये बिल अमेरिकी सीनेट यानि की अपर हाउस में पेश होगा।

Advertisement

USA: क्या है बिल?

मिली जानकारी के मुताबिक बिल का नाम ‘प्रमोटिंग ए रेजोल्यूशन टू द तिब्बत-चाइना डिस्प्यूट एक्ट’ है। इसका दूसरा नाम ‘रिजॉल्व तिब्बत एक्ट’ भी है। बता दें कि इस बिल का मकसद चीन पर दबाव बनाना है ताकि चीन-तिब्बत विवाद को सुलझाने के लिए चीन दलाई लामा और तिब्बत के लोकतांत्रिक नेताओं से बातचीत करने के लिए सामने आए। चीन और तिब्बत के बीच 14 सालों से यानि की साल 2010 के बाद से कोई बातचीत नहीं हुई है।

जिम मैक्गवर्न और माइकल मैक्कॉल ने पेश किया बिल

बता दें कि ये बिल सांसद जिम मैक्गवर्न और माइकल मैक्कॉल द्वारा पेश किया गया। इस बिल में चीन के उस दावे को खारिज किया गया है, जिसमें चीन, तिब्बत को अपना हिस्सा बताता है।

सांसद जैफ मर्कले और टॉड यंग ने भी ऐसा ही एक दूसरा विधेयक अमेरिकी कांग्रेस में पेश किया। जिम मैक्गवर्न ने बिल पेश करने के दौरान कहा कि ‘इस बिल के समर्थन में वोट तिब्बत के लोगों के अधिकारों को पहचान देने जैसा होगा। साथ ही ये वोट चीन और तिब्बत के बीच जारी विवाद को शांतिपूर्ण तरीके से हल करने के पक्ष में होगा। अभी भी बातचीत से विवाद का हल हो सकता है, लेकिन समय तेजी से बीत रहा है।‘

इनके साथ ही सांसद यंग किम ने भी कहा कि आज पेश किया गया बिल तिब्बत के लोगों को अपनी बात कहने का हक देगा। साथ ही ये चीन की कम्युनिस्ट पार्टी और तिब्बत के बीच सीधी बातचीत पर भी जोर देता है।

ये भी पढ़ें- Alexei Navalny: पुतिन के सबसे बड़े विरोधी की जेल में रहस्यमयी तरीके से मौत, 30 साल की मिली थी सजा

Hindi Khabar App: देश, राजनीति, टेक, बॉलीवुड, राष्ट्र, बिज़नेस, ज्योतिष, धर्म-कर्म, खेल, ऑटो से जुड़ी ख़बरो को मोबाइल पर पढ़ने के लिए हमारे ऐप को प्ले स्टोर से डाउनलोड कीजिए. हिन्दी ख़बर ऐप

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *