रविवार को इस विधि से करें सूर्य देव की पूजा, बढ़ता है मान- सम्मान और पद प्रतिष्ठा

सूर्य देव की पूजा

हिंदू धर्म में सूर्य देव का आदि पंच देवों में स्थान है,वहीं ज्योतिष में इन्हें ग्रहों का राजा माना गया है। जबकि इन्हें चरा-चर जगत की आत्मा भी माना जाता है। ऐसे में जहां हर देवी देवता की पूजा के लिए किसी खास दिन को मान्यता दी गई है, वहीं हर निश्चित किए गए दिन के संबंध में माना जाता है कि इस दिन के लिए निश्चित देवता को जल्द प्रसन्न किया जा सकता है। ऐसे में सप्ताह में देवों के लिए निश्चित किए गए दिनों को अधिकांश लोग उन खास देवता की पूजा अवश्य करते है। रविवार का दिन सूर्य देव की पूजा स्तुति को समर्पित है।

ज्योतिष में सूर्य को आपकी तरक्की, मान, सम्मान आदि का कारक माना गया है। जबकि आपके अपमान का कारण भी सूर्य का आपके विरुद्ध होना माना गया है। ऐसे में इस दिन के लिए कुछ विशेष कार्यों को लेकर मनाही भी है, माना जाता है कि यदि आप सूर्य देव को खुश करना चाहते हैं तो इस दिन पर इन चीजों से परहेज करें नहीं तो सूर्यदेव नाराज हो जाते हैं।

रविवार के दिन भगवान सूर्य देव की पूजा की जाती है और उन्हें अर्घ्य दिया जाता है। कहा जाता है कि भगवान सूर्य की कृपा अगर आप पर बरस जाए तो उसके जीवन के सभी संकट दूर हो जाते हैं। सूर्य देव की पूजा में सूर्य को अर्घ्य देना अति शुभ माना जाता है। हालांकि सूर्य देव को अर्घ्य पहले कुछ बातों का ध्यान रखना जरूरी होता है।

सूर्य को अर्घ्य देने से पहले ध्यान रखने योग्य बातें

  • रविवार के दिन सूर्य के उगने से पहले जरूर स्नान कर लें। जिसके बाद सूर्यानारायण को तीन बार अर्घ्य दें।
  • शाम के समय एक बार फिर सूर् दोव को अर्घ्य दें।
  • श्रद्धापूर्वक सूर्य मंत्रों का जाप करें।
  • आदित्य ह्रदय का नियमित रूप से पाठ करें।
  • वहीं रविवार के दिन नमक, तेल खाने से बचें।
  • इसके साथ ही रविवार के दिन एक बार फलहार जरूर करें।

सूर्य देव की पूजा- विधि

  • सूर्य भगवान को अर्घ्य देने से पहले तांबे के लोटे में जल भरें।
  • इसके बाद लोटे में लाल फूल, चावल डालकर सूर्य देव के मंत्र का जाप करें।
  • अगर आप ऐसा प्रत्येक दिन करते हैं तो और ज्यादा बेहतर होगा।
Share This News

Leave a Reply

Your email address will not be published.