Chandra Grahan 2022: वैशाख पूर्णिमा को लग रहा साल का पहला चंद्र ग्रहण, जानें इससे जुड़ी 10 जरूरी बातें

lunar eclipse 2022: साल के पहले चंद्र ग्रहण के दौरान चंद्रमा लाल रंग का नजर आएगा, इस कारण इसे ब्लड मून (Blood Moon) कहा जा रहा है. जब सूर्य और चंद्रमा के बीच मे पृथ्वी आ जाती है और चंद्रमा पृथ्वी से पूरी तरह ढक जाता है, तो ये ज्यादा चमकीला होकर लाल रंग का नजर आता है और पूर्ण चंद्र ग्रहण कहलाता है।

Share This News
Chandra Grahan 2022

साल का पहला चंद्रग्रहण lunar eclipse 16 मई को लगेगा। हालांकि भारत में इसकी दृश्यता नहीं होने के कारण सूतक काल मान्य नहीं होगा। हालांकि साल के पहले चंद्रग्रहण पर कई विशेष संयोग बन रहे हैं। ज्योतिषाचार्यों के अनुसार, यह चंद्रग्रहण वैशाख पूर्णिमा पर विशाखा नक्षत्र और वृश्चिक राशि में लगेगा।

साल का पहला चंद्र ग्रहण– वैदिक पंचांग के मुताबिक, साल का पहला चंद्र ग्रहण 16 मई को लगेगा। चंद्र ग्रहण के दिन ही बुद्ध पूर्णिमा भी पड़ रही है. इसके अलावा चंद्र ग्रहण के साथ दो शुभ संयोगों का भी निर्माण हो रहा है।

किस राशि में लगेगा चंद्र ग्रहण– 16 मई को लगने वाला चद्रं ग्रहण पूर्ण चंद्रग्रहण होगा जो वृश्चिक राशि में लग रहा है।  चंद्र ग्रहण वृश्चिक राशि में लगने की वजह से वृश्चिक राशि के जातकों पर इसका प्रभाव देखने को मिलेगा।

 चंद्र ग्रहण का समय- 16 मई को साल का पहला चंद्र ग्रहण भारतीय समयानुसार 7.58 PM से शुरू होगा और 11.25 PM मिनिट पर समाप्त होगा। पूर्ण चंद्र ग्रहण का प्रभाव 16 मई को सुबह 08:59 बजे के आसपास चरम पर रहने की उम्मीद है।

इन राशियों के लिए शुभ चंद्र ग्रहण– चंद्र ग्रहण के दिन ही बुद्ध पूर्णिमा भी पड़ रही है. इसके अलावा चंद्र ग्रहण के साथ दो शुभ संयोगों का भी निर्माण हो रहा है। ज्योतिषविदों का कहना है कि आगामी चंद्र ग्रहण मेष, सिंह, धनु ये तीन राशियों के लिए बेहद शुभ साबित होने वाले हैं।

राशि वालों को रहना होगा सतर्क- 16 मई को साल का पहला चंद्र ग्रहण लगने जा रहा है। यह खग्रास ग्रहण बेहद दुर्लभ संयोग में लग रहा है।यह पूर्ण चंद्र ग्रहण वृश्चिक राशि में लग रहा है। इसका कुछ राशि वालों पर बुरा असर पड़ सकता है, इसलिए कर्क, तुला,धनु, मकर राशि वाले जातकों को संभलकर रहना होगा।

वैशाख पूर्णिमा पर चंद्र ग्रहण– 16 मई को वैशाख पूर्णिमा की तिथि है और इसी दिन साल 2022 का पहला चंद्र ग्रहण भी लगेगा। हिंदू पंचांग की गणना के अनुसार चंद्र ग्रहण हमेशा पूर्णिमा तिथि पर ही लगता है। पूर्णिमा तिथि 15 मई को दोपहर 12 बजकर 47 मिनट से पूर्णिमा तिथि प्रारंभ हो जाएगी।

 सूतक काल- इस चंद्र ग्रहण का भारत पर असर नहीं होगा। भारत में कोई भी ग्रहण संबंधित कोई भी सूतक मान्य नहीं होंगे। विदेश में पड़ने वाला चंद्र ग्रहण वहां के लोगों और वहां बसे भारतीयों की राशि को भी प्रभावित करेगा। ग्रहण शुरू होने से 9 घंटे पहले सूतक शुरू हो जाता है, इसलिए उस समय से विदेश में रहने वाले लोगों को सूतक संबंधित नियमों का पालन करना होगा।

भारत में कहां दिखेगा– साल 2022 का पहला चंद्र ग्रहण भारत में नहीं दिखेगा। चंद्रगहण जब शुरू और समाप्त हो रहा है वह भारत में सुबह का समय है ऐसे में चंद्र ग्रहण की दृश्यता शून्य मानी जा रही है जिसके चलते सूतक मान्य नहीं होगा।

विदेशों में कहां दिखेगा– चंद्र ग्रहण 2022 अमेरिका और अंटार्कटिका के अधिकांश हिस्सों के साथ-साथ यूरोप और अफ्रीका के पश्चिमी इलाकों और प्रशांत के पूर्वी हिस्से से दिखाई देगा।  न्यूजीलैंड, मध्य पूर्व और पूर्वी यूरोप के स्काईवॉचर्स देख सकेंगे।

 2022 में कितने लगेंगे चंद्र ग्रहण– साल में दो बार चंद्र ग्रहण होगा। पहला चंद्र ग्रहण 16 मई को लगेगा।यह सुबह 07:02 बजे से दोपहर 12:20 बजे तक होगा। पहले सूर्य ग्रहण की तरह ही यह चंद्र ग्रहण भी भारत में दिखाई नहीं देगा। वहीं साल का आखिरी और दूसरा चंद्र ग्रहण 8 नवंबर को दोपहर 01:32 बजे से शाम 07:27 बजे तक रहेगा। यह पूर्ण चंद्र ग्रहण रहेगा और भारत में दिखाई देगा। लिहाजा इसका सूतक काल मान्‍य रहेगा।

Share This News

Leave a Reply

Your email address will not be published.