SC में केंद्र का अतिरिक्त हलफनामा, कहा- आत्महत्या से मरने वालों के परिवार भी मुआवजे के हकदार

नई दिल्ली: गुरुवार को सुप्रीम कोर्ट में केंद्र की ओर से दायर एक अतिरिक्त हलफनामे में कहा है कि कोरोना से 30 दिनों के भीतर आत्महत्या से मरने वाले लोगों के परिवार के सदस्य भी राज्य आपदा राहत कोष से भुगतान किए जाने वाले अनुग्रह मुआवजे के हकदार हैं।

व्यापक और समावेशी बनाने के लिए मुआवजे के दायरे को बढ़ाया गया

अतिरिक्त हलफनामे में आगे कहा गया है कि मुआवजे के दायरे को व्यापक और अधिक समावेशी बनाने के लिए कोरोना टेस्ट की तारीख से 30 दिनों के भीतर या कोविड-19 मामले के रूप में चिकित्सकीय रूप से निर्धारित होने की तारीख से होने वाली मौतों को ‘कोरोना प्रभावी मौत’ माना जाएगा, भले ही मृत्यु अस्पताल के बाहर हुई हो।

विस्तृत अतिरिक्त हलफनामे में गृह मंत्रालय ने कोविड महामारी ​​​​के कारण आत्महत्या करने वालों के परिवार के सदस्यों को मुआवजे के संबंध में सर्वोच्च न्यायालय द्वारा सुनवाई में कुछ सवालों के जवाब देने का प्रयास किया है।

केंद्र ने यह भी स्पष्ट किया कि 3 सितंबर  2021 के दिशानिर्देशों के लागू होने से पहले अस्पतालों / सरकारी प्राधिकरण द्वारा जारी किए गए किसी भी मृत्यु प्रमाण पत्र की समीक्षा और सुधार किया जा सकता है और इसके परिणामस्वरूप नए सिरे से जारी किया जा सकता है।

इसे भी पढ़ें: राहत कार्यों में COVID-19 से जान गवांने वालों को 50,000 रुपयों का अनुग्रह भुगतान: केंद्र सरकार का हलफनामा

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *