PM Modi in Goa: गोवा बना हर घर जल प्रमाणित होने वाला पहला राज्य, पीएम मोदी बोले- ये सरकार की बहुत बड़ी सफलता

PM Modi in Goa

PM Modi in Goa: शुक्रवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गोवा में हो रहे हर घर जल उत्सव को संबोधित किया। उन्होंने सबसे पहले देशवासियों को श्रीकृष्ण जन्माष्टमी की बधाई दी। इसके बाद प्रधानमंत्री मोदी ने कहा, अमृत काल में भारत जिन विशाल लक्ष्यों पर काम कर रहा है, उससे जुड़े तीन अहम पड़ाव हमने आज पार किए हैं। कुछ साल पहले सभी देशवासियों के प्रयासों से, देश खुले में शौच से मुक्त घोषित हुआ था। इसके बाद हमने संकल्प लिया था कि गांवों को ODF प्लस बनाएंगे। देश ने और विशेषकर गोवा ने आज एक उपलब्धि हासिल की है।

गोवा बना हर घर जल प्रमाणित होने वाला पहला राज्य

पीएम मोदी ने कहा आज गोवा देश का पहला राज्य बना है, जिसे हर घर जल सर्टिफाई किया गया है। दादरा नगर हवेली एवं दमन और दीव भी, हर घर जल सर्टिफाइड केंद्र शासित राज्य बन गए हैं। अमृत काल में भारत जिन विशाल लक्ष्यों पर काम कर रहा है, उससे जुड़े 3 अहम पड़ाव हमने आज पार किए हैं। 1- आज देश के 10 करोड़ ग्रामीण परिवार पाइप द्वारा स्वच्छ जल की सुविधा से जुड़ चुके हैं। ये हर घर जल पहुंचाने की सरकार की बहुत बड़ी सफलता है। ये सबका प्रयास का बेहतरीन उदाहरण भी है। इसको लेकर भी देश ने अहम माइलस्टोन हासिल किया है।

ये हर घर जल पहुंचाने की सरकार की बहुत बड़ी सफलता

आगे उन्होनें कहा अब देश के अलग-अलग राज्यों के एक लाख से ज्यादा गांव ODF प्लस हो चुके हैं। इस बड़ी चुनौती से निपटने के लिए सेवाभाव, कर्तव्यभाव से 24 घंटे काम करने की जरूरत है। हमारी सरकार बीते 8 साल से इसी भावना के साथ water security के लिए काम कर रही है। आज दुनिया की बड़ी-बड़ी संस्थाएं कह रही हैं कि 21वीं सदी की सबसे बड़ी चुनौती water security की होगी। पानी का अभाव विकसित भारत के संकल्प की सिद्धि में भी अवरोध बन सकता है।

भारत में अब रामसर साइट्स यानि wetlands की संख्या भी बढ़कर 75 हो गई

संबोधन में प्रधानमंत्री बोले सरकार बनाने के लिए उतनी मेहनत नहीं करनी पड़ती, लेकिन देश बनाने के लिए कड़ी मेहनत करनी होती है। हम सभी ने देश बनाने का रास्ता चुना है, इसलिए देश की वर्तमान और भविष्य की चुनौतियों का लगातार समाधान कर रहे हैं। भारत में अब रामसर साइट्स यानि wetlands की संख्या भी बढ़कर 75 हो गई है। इनमें से भी 50 साइट्स पिछले 8 वर्षों में ही जोड़ी गई हैं। यानि water security के लिए भारत चौतरफा प्रयास कर रहा है और इसके हर दिशा में नतीजे भी मिल रहे हैं।

Share This News

Leave a Reply

Your email address will not be published.