Advertisement

पाकिस्तान करने चला भारत के चंद्रयान मिशन की कॉपी, जनता बोली… हमें चाहिए रोटी

Pakistan Moon Mission

Pakistan Moon Mission

Share
Pakistan Moon Mission: मशहूर कवि हुल्लड़ मुरादाबादी की कविता की दो पक्तियां हैं कि ‘चांद से हैं खूबसूरत भूख में दो रोटियां, कोई बच्चा जब मरेगा क्या करेगी चांदनी’. वैसे तो ये पंक्तियां किसी और परिपेक्ष्य में कहीं गई थीं लेकिन फिलहाल यह पाकिस्तान पर सटीक बैठती हैं. दरअसल पाकिस्तान भारत के चंद्रयान मिशन-3 कॉपी करना चाहता है. इसके लिए उसने चीन से मदद ली है. वहीं सोशल मीडिया पर पाकिस्तानी इस मिशन का विरोध कर रहे हैं. उनका कहना है कि पहले रोटी चाहिए...इस मून मिशन से क्या होने वाला है. बतां दे कि पाकिस्तान ने मून मिशन के लिए चीनी यान के साथ अपना एक उपग्रह भेजा है.
Advertisement

दरअसल चीन ने शुक्रवार को मून रिसर्च मिशन चांग’ई-6 यान को लॉन्च किया. चाइना नेशनल स्पेस एडमिनिस्ट्रेशन (CNSA) की ओर से यह जानकारी दी गई. इस मिशन का उद्देश्य चंद्रमा के रहस्यमय सुदूर हिस्से से सैंपल एकत्र करने और फिर पृथ्वी पर वापस लाना है. मानव मून रिसर्च के इतिहास में अपनी तरह की यह पहली कोशिश है.

Advertisement

इसमें चीनी यान के साथ पाकिस्तान ने भी अपना उपग्रह भेजा है. आर्थिक संकट में घिरे पाकिस्तान के लोग इसका विरोध कर रहे हैं. सोशल मीडिया लोगों ने कहा, हमें पहले रोटी चाहिए, मून मिशन से क्या होगा.

सीएनएसए के अनुसार लॉन्ग मार्च-5 वाई8 रॉकेट, चांग’ई-6 को ले जाएगा. चांग’ई-6 अंतरिक्ष यान में एक ऑर्बिटर, एक लैंडर, एक आरोही और एक रिटर्नर है. जबकि पाकिस्तान का एक छोटा उपग्रह ऑर्बिटर पर है. पूरा मिशन लगभग 53 दिनों तक चलने की उम्मीद है.

यह भी पढ़ें: भारत-नेपाल: सौ रुपये के नोट पर नया नक्शा बढ़ाएगा दोनों देशों के बीच टेंशन!

Hindi Khabar App: देश, राजनीति, टेक, बॉलीवुड, राष्ट्र,  बिज़नेस, ज्योतिष, धर्म-कर्म, खेल, ऑटो से जुड़ी ख़बरों को मोबाइल पर पढ़ने के लिए हमारे ऐप को प्ले स्टोर से डाउनलोड कीजिए. हिन्दी ख़बर ऐप

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *