बीजेपी ने किस तरह से अपर्णा को अपने पाले में लिया? योगी को अपर्णा मानती हैं बड़ा भाई

बीजेपी में अपर्णा यादव

कभी सपा नेता रही अपर्णा यादव (Aparna Yadav) अब बीजेपी में शामिल हो चुकी हैं। अपर्णा ने आज बीजेपी उत्तर प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह (Swatantra Dev Singh) और उपमुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य (Keshav Prasad Maurya) की मौजूदगी में बीजेपी की सदस्यता ली। इस दौरान अपर्णा ने कहा कि वह पीएम मोदी की कार्यशैली से काफी प्रभावित हैं।

बता दें कि इससे पहले 2017 में सपा के टिकट पर अपर्णा यादव ने लखनऊ कैंट से विधानसभा चुनाव लड़ा था, लेकिन वो बीजेपी उम्मीदवार रीता बहुगुणा जोशी से हार गई थीं। अब खबर है कि अपर्णा यादव को बीजेपी लखनऊ कैंट से उम्मीदवार बना सकती है।

अपर्णा यादव भले ही मुलायम सिंह यादव की बहू हैं लेकिन वो योगी आदित्यनाथ को अपना बड़ा भाई मानती हैं। काफी समय से अपर्णा के बीजेपी में जाने की चर्चाएं थीं। आज वो हकीकत में बदल गई। इससे पहले अखिलेश यादव (Akhilesh Yadav) से जब इससे संबंधित सवाल किया गया तो उन्होंने इसे परिवार का मामला बताया था।

कौन है अपर्णा यादव?

अपर्णा यादव मुलायम की दूसरी पत्नी साधना यादव के बेटे प्रतीक यादव की पत्नी हैं। अपर्णा यादव का जन्म 1 जनवरी 1990 को हुआ था। उनके पिता अरविंद सिंह बिष्ट एक मीडिया कंपनी में थे। सपा की सरकार में वे सूचना आयुक्त भी रहे थे। अपर्णा की मां अंबी बिस्ट लखनऊ नगर निगम में अधिकारी हैं।

अपर्णा यादव ने अपनी प्रारंभिक शिक्षा लखनऊ के लोरेटो कॉन्वेंट से की है। कहा जाता है कि प्रतीक यादव को वह स्कूल के दिनों से ही जानती थीं। 2010 में अपर्णा और प्रतीक की सगाई हुई थी। दिसंबर 2011 में दोनों की शादी हुई थी। अपर्णा की शादी समारोह मुलायम सिंह के पैतृक गांव सैफई में हुई थी। अपर्णा और प्रतीक की एक बेटी भी है जिसका नाम प्रथमा यादव है।

अपर्णा यादव ने राजनीति को एक विषय के तौर पर भी पढ़ा है। उन्होंने ब्रिटेन की मैनचेस्टर यूनिवर्सिटी से इंटरनेशनल रिलेशन एंड पॉलिटिक्स में मास्टर डिग्री ली है।

सीएम योगी को मानती हैं भाई

अपर्णा यादव मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (Yogi Adityanath) को अपना बड़ा भाई मानती हैं। बता दें कि दोनों ही उत्तराखंड (Uttrakhand) के रहने वाले हैं। यूपी के मुख्यमंत्री बनने से पहले अपर्णा यादव कई बार योगी आदित्यनाथ की तारीफ कर चुकी हैं। इस दौरान उन्होंने गोरखपुर में गोरखनाथ मंदिर में योगी आदित्यनाथ से मुलाकात भी की थी। अपर्णा तब गोरखनाथ मंदिर में दर्शन के लिए गई थीं।

योगी आदित्यनाथ और अपर्णा यादव की कान्हा उपवन (Kanha Upvan) में हुई मुलाकात भी खूब चर्चा में रहा था। तब प्रतीक यादव (Pratik Yadav) और अपर्णा यादव लखनऊ में कान्हा उपवन देखने गए थे। बता दें कि कान्हा उपवन में लावारिस पशुओं, गाय, भैंस और कुत्तों को रखा जाता है और उनकी सेवा की जाती है।

धारा 370 पर बीजेपी का समर्थन

अपर्णा यादव ने अनुच्छेद 370 (Article 370) हटाने पर भी बीजेपी सरकार की तारीफ की थी। जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटाए जाने का उन्होंने समर्थन किया था। इसके अलावा भी कई विषयों पर वह खुलकर बीजेपी का समर्थन कर चुकी हैं।

राजनीति और संगीत का मेल

अपर्णा यादव की रूचि राजनीति में होने के साथ-साथ संगीत में भी है। उन्होंने कई वर्षों तक शास्त्रीय संगीत की शिक्षा भी ली है। इसके अलावा अपर्णा एक संगठन भी चलाती हैं जो महिलाओं के अधिकारों और सशक्तिकरण के लिए काम करती है।

Share This News

Leave a Reply

Your email address will not be published.