ज्ञानवापी सर्वे: ज्ञानवापी मस्जिद का सर्वे पूरा, सर्वे टीम में शामिल सोहनलाल आर्य ने किया दावा- बाबा मिले

सर्वे को देखते हुए सोमवार को सुरक्षा के कड़े इंतजाम किए गए थे। गोदौलिया से मैदागिन तक सभी दुकानें बंद करा दी गई थीं। इसके अलावा पूरे 2 किलोमीटर के दायरे में फोर्स तैनात की गई। कल के मुकाबले आज फोर्स ज्यादा तैनात की गई।

Share This News
ज्ञानवापी सर्वे

वाराणसी में ज्ञानवापी मस्जिद (Gyanvapi masjid survey) का सर्वे लगातार तीन दिन चलने के बाद सोमवार को पूरा हो गया है। आज सोमवार तो टीम ने नंदी के सामने बने कुएं का सर्वे किया। अब रिपोर्ट तैयार कर कोर्ट में पेश की जाएगी। इस बीच, सर्वे टीम का हिस्सा सोहनलाल आर्य ने बड़ा बयान दिया है। कोर्ट में केस होने के कारण उन्होंने साफ-साफ कुछ नहीं कहा, लेकिन इतना संकेत जरूर दिया कि नंदी को जिसकी तलाश थे, वो बाबा मिल गए हैं। यानी साफ है कि मस्जिद मे मंदिर के पुख्ता प्रमाण मिले हैं। उन्होंने आगे ये भी कहा की ज्ञानवापी सर्वे में सभी पक्ष सहमत है।

एडवोकेट कमिश्ननर विशाल सिंह के नेतृत्व में वादी-प्रतिवादी पक्ष के 58 लोगों की टीम ने सुबह 8 बजे परिसर में प्रवेश किया था। सूत्रों के मुताबिक टीम ने आज नंदी के सामने बने कुएं में कैमरा डालकर भी सर्वे किया। सर्वे के लिए वाटर रेसिस्टेंट कैमरे का इस्तेमाल किया गया। ज्ञानवापी मस्जिद के सर्वे का आज तीसरा दिन है। इससे पहले सर्वे का करीब 80 फीसदी काम पूरा हो चुका था। सर्वे के बाद 17 मई से पहले इसकी रिपोर्ट कोर्ट में पेश की जानी है।

क्या है ज्ञानवापी मामला?

अयोध्या स्थित बाबरी मस्जिद के बाद, वाराणसी की प्रसिद्ध ज्ञानवापी मस्जिद ने उस समय सुर्खियां बटोरी जब एक याचिकाकर्ता ने आरोप लगाया कि मस्जिद का निर्माण मुगल बादशाह औरंगजेब ने 16वीं शताब्दी में एक मंदिर को तोड़कर किया था। याचिकाकर्ता ने भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण द्वारा परिसर के विस्तृत सर्वेक्षण की मांग की।

सर्वेक्षण के कदम को तर्क के दोनों पक्षों से कड़ी प्रतिक्रिया मिली। सुप्रीम कोर्ट ने शुक्रवार (13 मई, 2022) को उत्तर प्रदेश के वाराणसी में ज्ञानवापी-शृंगार गौरी परिसर के सर्वेक्षण पर यथास्थिति का अंतरिम आदेश देने से इनकार कर दिया और कहा कि सर्वेक्षण को एक वीडियो में टेप किया जाएगा।

Share This News

Leave a Reply

Your email address will not be published.