Advertisement

सबसे खराब दौर में पूर्वी लद्दाख क्षेत्रीय सीमा : जयराम रमेश

Share
Advertisement

New Delhi : कांग्रेस पार्टी देशभर में अपना 139वां स्थापना दिवस मना रही है। स्थापना दिवस के अवसर पर नागपुर में एक विशाल रैली का आयोजन किया गया है। ‘हैं तैयार हम’ महारैली के जरिए कांग्रेस आगामी लोकसभा चुनाव की तैयारियों में जुट चुकी है। कांग्रेस अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खड़गे, कांग्रेस नेता सोनिया गांधी, राहुल गांधी समेत कई दिग्गजों ने शिरकत की।

Advertisement

केंद्र सरकार को जमकर घेरा

कांग्रेस की महारैली में केंद्र सरकार पर जमकर हमले किए गए। इसी बीच, कांग्रेस नेता जयराम रमेश ने सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म ‘एक्स’ के जरिए बीजेपी की केंद्र सरकार को जमकर घेरा है। उन्होंने आरोप लगाया कि मई 2020 से चीन के सैनिक भारतीय गश्ती दल को पूर्वी लद्धाख के डेपसांग मैदान, डेमचोक तक पहुंच बनाने से रोक रहे हैं। इससे अंदाजा लगाया जा सकता है कि देश अपने छह दशकों में सबसे बुरे क्षेत्रीय संकट से जूझ रहा है।

रमेश ने क्या कहा?

रमेश ने लद्दाख स्थित राजनेता कोंचोक स्टैनजिन की एक पोस्ट का हवाला दिया, जिन्होंने कहा था कि लद्दाख में 1962 के चीन-भारत संघर्ष के प्रसिद्ध रेजांग-ला युद्ध के स्थल पर एक मील का पत्थर चीन के साथ विघटन प्रक्रिया के हिस्से के रूप में सेना द्वारा नष्ट कर दिया गया था। सनद रहे कि स्टैनजिन लद्दाख स्वायत्त पहाड़ी विकास परिषद में चुशुल के पार्षद हैं।

मेजर सिंह की स्मृति का बहुत बड़ा अपमान है

सनद रहे कि चुशूल के पार्षद कोंचोक स्टैनजिन ने खुलासा किया है कि जिन स्थान पर मेजर सिंह गिरे थे, वहां एक स्मारक बनाया गया था। लेकिन, उसे तोड़ दिया गया था। क्योंकि, यह 2021 में चीन के साथ बातचीत के बफर जोन में आता था। साथ ही, उन्होंने कहा कि यह मेजर सिंह की स्मृति का बहुत बड़ा अपमान है। इसी पोस्ट का हवाला देते हुए जयराम रमेश मोदी सरकार को आड़े हाथ लिया है।

यह भी पढ़ें – कतर की जेल में बंद भारत के पूर्व नौसैनिकों की सज़ा हुई कम, विदेश मंत्रालय का बयान

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *