DGCA Guidelines: वन्यजीवों के गतिविधियों पर रखी जाएगी नजर, ताकि बर्ड हिट का खतरा कम हो

नई दिल्ली: पिछले कुछ दिनों से भारत के हवाईअड्डों पर एयरलाइन्स से पक्षी और अन्य जानवरों से टकराने के कई मामले सामने आ चुके हैं। कुछ दिनों पहले बेंगलुरु से पटना आ रहे vistara एयरलाइन्स के विमान से पक्षी टकरा गया था। ऐसी घटनाओं पर लगाम लगाने के लिए विमानन नियामक डीजीसीए (DGCA) ने शनिवार को दिशा-निर्देश जारी किए। नियमों के मुताबिक, हवाईअड्डों पर नियमित रूप से कर्मचारियों द्वारा गश्त लगाया जाएगा। इसके अलावा जब भी हवाईअड्डों पर कोई वन्यजीव गतिविधि हो तो पायलटों को फौरन सूचित किया जाए। बता दें कि पिछले कुछ हफ्तों के दौरान पक्षियों के टकराने की कई घटनाएं सामने आई है। 

वन्यजीवों के गतिविधियों पर रखी जाएगी नजर

नियामक ने शनिवार के परिपत्र जारी करते हुए कहा कि सभी एयरपोर्ट के संचालकों से अनुरोध किया जाता है कि वे अपने वन्यजीव जोखिम प्रबंधन कार्यक्रम की समीक्षा करें। नागरिक उड्डयन महानिदेशालय ने हवाईअड्डों से वन्यजीवों के जोखिम का आकलन करने और विमान को होने वाले जोखिम के अनुसार उन्हें रैंक करने के लिए कहा है। डीजीसीए ने यह भी कहा कि हवाईअड्डों के पास वन्यजीवों की आवाजाही के आंकड़ों की निगरानी और रिकॉर्ड करने की प्रक्रिया होनी चाहिए। इसमें कहा गया है, ‘एयरोड्रम संचालकों को निर्देश दिया जाता है कि वे वन्यजीव जोखिम प्रबंधन कार्यक्रम के कार्यान्वयन पर मासिक कार्रवाई रिपोर्ट और हर महीने की 7 तारीख तक वाइल्डलाइफ स्ट्राइक डाटा के आंकड़े भी उपलब्ध कराए जाएं।’

Share This News

Leave a Reply

Your email address will not be published.