कार्ति चिदंबरम के ठिकानों पर CBI का छापा, चीनी नागरिकों को वीजा दिलाने के लिए 50 लाख रिश्वत लेने का आरोप

चेन्नई में कांग्रेस नेता पी. चिदंबरम के आवास पर पुलिस की मौजूदगी है। CBI उनके खिलाफ चल रहे मामले के सिलसिले में उनके बेटे कार्ति चिदंबरम (CBI Raid Karti Chidambaram) के कई स्थानों पर छापेमारी की है।

Share This News
CBI Raid Karti Chidambaram

तमिलनाडु: चेन्नई में कांग्रेस नेता पी. चिदंबरम के आवास पर पुलिस की मौजूदगी है। CBI उनके खिलाफ चल रहे मामले के सिलसिले में उनके बेटे कार्ति चिदंबरम (CBI Raid Karti Chidambaram) के कई स्थानों पर छापेमारी की है। केंद्रीय जांच ब्यूरो(CBI) ने चल रहे एक मामले के संबंध में कांग्रेस नेता कार्ति चिदंबरम के कई स्थानों (निवास और कार्यालय) पर तलाशी अभियान चलाया है। बता दें कि ये छापेमारी कार्ति के दिल्‍ली और मुंबई के अलावा तमिलनाडु के सिवागंगई और चेन्‍नई स्थित आवास पर की गई है। सीबीआइ की ये छापेमारी मनी लाड्रिंग मामले में की गई है। चिदंबरम के बेटे पर कई मामले चल रहे हैं।

पी चिदंबरम के बेटे कार्ति चिदंबरम के ठिकानों पर CBI का छापा

सीबीआई ने पी.चिदंबरम के बेटे के खिलाफ नया केस दर्ज किया है। कार्ति के खिलाफ 250 चीनी नागरिकों को वीजा दिलवाने के लिए कथित तौर पर 50 लाख रुपए की रिश्वत लेने का आरोप है। अधिकारियों ने बताया कि सीबीआई को आईएनएक्स मीडिया मामले में लेन-देन की जांच के दौरान इसकी जानकारी मिली। साथ ही वरिष्ठ नेता पी चिदंबरम (CBI Raid Karti Chidambaram) ने कथित तौर पर नियमों की अनदेखी कर चीनी नागरिकों को वीजा दिलाने में मदद की।

चीनी नागरिकों को वीजा दिलाने के लिए 50 लाख रिश्वत लेने का आरोप

इस मामले में कहा जा रहा है कि पंजाब में स्थित तलवंडी साबो पावर लिमिटेड प्रोजेक्ट चल रहा था, जिसके लिए चीनी मजदूरों को वीजा दिलाया गया था। इस कार्रवाई के चलते कार्ति चिदंबरम ने अपने ट्विटर हैंडल पर ट्वीट भी किया और उन्होनें ट्वीट में लिखा कि यह (CBI की कार्रवाई) कितनी बार हुई है, मैं गिनती भी भूल गया हूं। इसका एक रिकॉर्ड होना चाहिए।

मेरा नाम आरोपी के रुप में नहीं

वहीं कांग्रेस नेता पी चिदंबरम ने ट्वीट कर लिखा,”CBI की एक टीम ने चेन्नई में मेरे आवास और दिल्ली में मेरे आधिकारिक आवास की तलाशी ली है। टीम ने मुझे एक प्राथमिकी दिखाई, जिसमें मेरा नाम आरोपी के रुप में नहीं था। तलाशी के लिए पहुंची टीम को कुछ नहीं मिला और उन्होंने कुछ भी जब्त नहीं किया।”

Read Also:- भारत में पूजापाठ करना मूलभूत अधिकार, जानिए इस कानून उपासना स्थल (विशेष उपबंध) Act, 1991 के बारे में

Read Also:- सुप्रीम कोर्ट पहुंचा ‘मैरिटल रेप’ का मामला, दिल्ली हाईकोर्ट के खंडित फैसले को दी गई चुनौती

Share This News

Leave a Reply

Your email address will not be published.