Chardham Yatra 2022: 8 मई को खुलेंगे बद्रीनाथ धाम के कपाट, जानें बद्रीनाथ मार्ग की स्थिति

Uttarakhand उत्तराखंड में 3 मई से चारधाम यात्रा Chardham Yatra 2022 शुरू हो गई है. यमुनोत्री Yamunotri और Gangotri गंगोत्री धाम के कपाट विधिवत रूप से पूजा-अर्चना के बाद श्रद्धालुओं के लिए खोल दिए गए हैं

Share This News
badrinath dham

badrinath dham

Uttarakhand उत्तराखंड में 3 मई से चारधाम यात्रा Chardham Yatra 2022 शुरू हो गई है. यमुनोत्री Yamunotri और Gangotri गंगोत्री धाम के कपाट विधिवत रूप से पूजा-अर्चना के बाद श्रद्धालुओं के लिए खोल दिए गए हैं. गंगोत्री, केदारनाथ, बद्रीनाथ के साथ ही यमुनोत्री भी चारधाम का हिस्सा है. यहीं से चारधाम यात्रा की शुरुआत मानी जाती है.

अधूरा पड़ा चौड़ीकरण का कार्य

8 मई को बाबा बद्रीनाथ के कपाट खोल दिए जाएंगे. बाबा बद्रीनाथ के दर्शन के लिए श्रद्धालुओं ने यात्रा करना शुरू कर दिया है. इस यात्रा में श्रद्धालुओं को भारी समस्या का सामना करना पड़ रहा है. बता दे कि, बद्रीनाथ यात्रा मार्ग पर कर्णप्रयाग के समीप हाइवे पर सड़क चौड़ीकरण का कार्य अभी तक अधूरा पड़ा है. सड़क कटिंग के कार्य से लगातार जाम लग रहा है.

राहगीरों को करना पड़ रहा दिक्कतों का सामना

बद्रीनाथ धाम की यात्रा के लिए यह मार्ग बहुत ही महत्यपूर्ण है. कई स्थानों पर यह मार्ग बदहाल अवस्था में पड़ा है. मार्ग पर धूल मिट्टी उड़ने से राहगीरों को भारी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है. इतना ही नहीं, यात्रा मार्ग पर पानी का छिड़काव भी नहीं किया जा रहा है.

चारधाम यात्रा के शुरू होने से पहले HCC कंपनी अभी तक निर्माण कार्य पूरा नहीं कर पाई है. जिससे श्रद्धालुओं को भी भारी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है. इसके अलावा चारधाम यात्रा शुरू होते ही मौसम विभाग ने भी अलर्ट जारी कर दिया है. मौसम विभाग ने भारी बारिश की संभावना जताई है.

मौसम विभाग की ओर से मंगलवार को पश्चिमी विक्षोभ के सक्रिय होने के साथ ही बंगाल की खाड़ी से आ रही नम हवाओं से मैदान से लेकर पहाड़ तक बारिश की संभावना जताई है. अगर, मौसम विज्ञानियों की भविष्यवाणी सच होती है और पहाड़ से लेकर मैदान तक बारिश होती है, तो इसका सीधा असर चारधाम यात्रा पर भी पड़ेगा. वहीं चारधाम यात्रा को लेकर सरकार, शासन, जिला प्रशासन की ओर से की गई तैयारियों की भी कलई खुल सकती है.

Share This News

Leave a Reply

Your email address will not be published.