Advertisement

सिद्धू के सलाहकारों को हटाने के लिए कांग्रेस ने दिया अल्टीमेटम, माली ने कहा ‘उनकी जान को खतरा’

Navjot Singh Sidhu

Navjot Singh Sidhu

Share
Advertisement

चंडीगढ़: पंजाब में विधानसभा चुनाव से पहले कांग्रेस पार्टी में चल रही सियासी जंग थमने का नाम नहीं ले रही। कुछ दिन पहले ही पंजाब कांग्रेस के अध्यक्ष नवजोत सिंह सिद्धू के सलाहकारों ने एक के बाद एक कई विवादित बयान दिए, जिसे लेकर काफी विरोध हुआ। लेकिन अब पार्टी के आलाकमान, कांग्रेस के प्रभारी अध्यक्ष हरीश रावत आगे आए हैं। उन्होंने सिद्धू को उनके सलाहकारों मालविंदर सिंह माली और डॉ. प्यारेलाल गर्ग को तुरंत हटाने का अल्टीमेटम दिया था। जिसके बाद मालविंदर ने खुद ही इस्तीफा दे दिया। साथ ही माली ने ये भी कहा कि उनकी जान पर खतरा है और इसके पीछे कैप्टन अमरिंदर सिंह के अलावा कई लोगों का हाथ बताया है।

Advertisement

माली ने सिद्धू को लिखा खत, कैप्टन व अन्य लोग जान के दुश्मन

माली ने सिद्धू को एक खत लिखा, जिसमें उन्होंने कहा कि ‘मैं पंजाब कांग्रेस अध्यक्ष नवजोत सिंह सिद्धू को सुझाव देने के लिए दी गई अपनी सहमति वापस लेता हूँ। मेरे खिलाफ कुछ नेताओं ने द्वेशपूर्ण अभियान चलाए। यदि मेरी जान को किसी तरह का कोई नुकसान या शारीरिक क्षति होती है तो इसके लिए कैप्टन अमरिंदर सिंह, विजय इंद्र सिंगला, कांग्रेस सांसद मनीष तिवारी, सुखबीर सिंह बादल, बिक्रमजीत सिंह मजीठिया और बीजेपी के सुभाष शर्मा, आम आदमी पार्टी के राघव चड्ढा और जरनैल सिंह जिम्मेदार होंगे।’

गौरतलब है, कि नवजोत सिंह सिद्धू के सलाहकार मालविंदर सिंह माली और प्यारे लाल गर्ग पाकिस्तान, कश्मीर और इंदिरा गांधी पर दिए अपने बयानों की वजह से कई दिनों से विवादों में थे। यही नहीं, मालविंदर सिंह माली ने अपनी फेसबुक पोस्ट में अमरिंदर सिंह को ‘अली बाबा’ और उनके सहयोगियों को ‘चालीस चोर’ बताया था।

‘हमें ऐसे लोग नहीं चाहिए, जो पार्टी को शर्मिंदा करें’- रावत

माली की वजह से भाजपा को भी मौका मिल गया और उसने भी कांग्रेस पर निशाना साधा था। जिसकी वजह से भी कांग्रेस ने माली को हटाने का अल्टीमेटम दिया। पंजाब कांग्रेस के प्रभारी हरीश रावत ने कहा कि उनके साथ, पूरी पार्टी और पूरे राज्य को भी उनके उन बयानों से आपत्ति है। माली के जम्मू-कश्मीर वाले बयान पर जब यह सवाल पूछा गया कि पार्टी इस विवाद से कैसे निपटेगी? तो रावत ने जवाब दिया कि ये सलाहकार पार्टी द्वारा नियुक्त नहीं किए गये थे। हमने सिद्धू से उन्हें हटाने के लिए कहा है। यदि सिद्धू ऐसा नहीं करते हैं, तो मैं करूंगा। हमें ऐसे लोग नहीं चाहिए, जो पार्टी को शर्मिंदा करें।

बता दें, मालविंदर सिंह माली ने एक ट्वीट में कहा था कि कश्मीर, कश्मीरियों का देश है, वहीं सिद्धू के दूसरे सलाहकार प्यारे लाल गर्ग ने पाकिस्तान की आलोचना करने के लिए पंजाब के सीएम अमरिंदर सिंह की निंदा की थी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

अन्य खबरें