Advertisement

Makar Sankranti Date 2022: 2022 में मकर संक्रांति कब है?

मकर संक्रांति कब है
Share
Advertisement

Makar Sankranti Date 2022: मकर संक्रांति कब है? मकर संक्रांति हर वर्ष मनाया जाता है। पिछले साल 2021 में भी मकर संक्रांति मनाई गई थी। सूर्य जब मकर राशि में प्रवेश करते हैं तब हिंदू धर्म के अनुसार, मकर संक्रांति मनाई जाती है। मकर संक्रांति का पर्व देश के अलग-अलग हिस्सों में अलग- अलग नामों से जाना जाता है। मकर संक्रांति को पंजाब में लोहड़ी, उत्तराखंड में उतरायणी, गुजरात में उत्तरायण, केरल में पोंगल भी कहा जाता है। उत्तर भारत में इसे मकर संक्रांति के नाम से ही जाना जाता है। साथ ही कहीं-कहीं इसे खिचड़ी का पर्व भी कहा जाता है।

Advertisement

साल 2022 में मकर संक्रांति कब है?

पंचांग के अनुसार, साल 2022 में मकर संक्रांति का पर्व 14 जनवरी 2022, शुक्रवार को पौष मास की शुक्ल पक्ष की द्वादशी की तिथि को मनाया जाएगा।

सूर्य का मकर राशि में गोचर

14 जनवरी 2022 को सूर्य धनु राशि से निकल कर मकर राशि में गोचर करेंगे। सूर्य जब एक राशि से दूसरी राशि में जाते हैं तो इस प्रक्रिया को संक्रांति कहा जाता है। मकर संक्रांति को सभी संक्रांति में अति महत्वपूर्ण माना गया है।

मकर संक्राति 2022- शुभ मुहूर्त
मकर संक्राति पुण्य काल – दोपहर 02:43 से शाम 05:45 तक
अवधि – 03 घण्टे 02 मिनट
मकर संक्राति महा पुण्य काल – दोपहर 02:43 से रात्रि 04:28 तक
अवधि – 01 घण्टा 45 मिनट

मकर संक्रांति का महत्व

हिंदू धर्म में मकर संक्रांति का पर्व बहुत महत्वपूर्ण होता है। इस दिन पवित्र नदी में स्नान और दान का विशेष पुण्य मिलता है। मकर संक्रांति पर सूर्य देव उत्तरायण हो जाते हैं। ऐसी मान्यता है कि इस दिन से ही ऋतु में परिवर्तन आरंभ हो जाता है। मकर संक्रांति से सर्दी में कमी आने लगती है। इस दिन से ही शरद ऋतु के जाने का समय आरंभ हो जाता है और बसंत ऋतु का आगमन शुरू हो जाता है।

ज्योतिष शास्त्र के अनुसार, मकर संक्रांति के बाद दिन लंबे और रातें छोटी होने लगती हैं। पौराणिक कथाओं के अनुसार, इस दिन भगवान आशुतोष ने भगवान विष्णु को आत्मज्ञान का दान दिया था। महाभारत कथा के अनुसार, पितामह भीष्म ने भी अपना प्राण मकर संक्रांति के दिन ही त्यागा था।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

अन्य खबरें