Advertisement

नई दिल्ली: मनीष सिसोदिया और सत्येंद्र जैन ने अपने पदों से दिया इस्तीफा, CM केजरीवाल ने किया मंजूर

Share
Advertisement

नई दिल्ली: दिल्ली के मंत्री मनीष सिसोदिया और सत्येंद्र जैन ने राज्य मंत्रिमंडल में अपने पदों से इस्तीफा दिया। सीएम अरविंद केजरीवाल ने उनका इस्तीफा स्वीकार कर लिया है। आम आदमी पार्टी (आप) के गिरफ्तार नेताओं मनीष सिसोदिया और सत्येंद्र जैन ने आज दिल्ली मंत्रिमंडल से इस्तीफा दे दिया। मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने उनका इस्तीफा स्वीकार कर लिया है और जल्द ही नए मंत्रियों को लाने के लिए कैबिनेट में फेरबदल कर सकते हैं। मनीष सिसोदिया 18 मंत्रालयों के प्रभारी रह चुके हैं, जिनमें 10 महीने से जेल में बंद सत्येंद्र जैन का स्वास्थ्य विभाग भी शामिल है। सिसोदिया को रविवार को दिल्ली शराब नीति मामले में गिरफ्तार किया गया था।

Advertisement

CM केजरीवाल ने इस्तीफा किया स्वीकार

जेल में बंद आम आदमी पार्टी के नेता मनीष सिसोदिया और सत्येंद्र जैन ने मंत्री पद से इस्तीफा दे दिया है और दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने उनका इस्तीफा स्वीकार कर लिया है। अगर दो साल या उससे अधिक की जेल की सजा सुनाई जाती है, तो सिसोदिया और जैन अपनी सीट खो सकते हैं और छह साल तक चुनाव नहीं लड़ सकते हैं। सिसोदिया को राष्ट्रीय राजधानी में 2021-22 के लिए अब रद्द की जा चुकी शराब नीति के निर्माण और कार्यान्वयन में कथित भ्रष्टाचार के आरोप में सीबीआई ने गिरफ्तार किया था।

लॉन्ड्रिंग मामले में हुई थी गिरफ्तारी

सत्येंद्र जैन को प्रवर्तन निदेशालय ने पिछले साल मई में मनी लॉन्ड्रिंग मामले में उनकी कथित संलिप्तता के लिए गिरफ्तार किया था। सिसोदिया दिल्ली के उपमुख्यमंत्री थे और शिक्षा सहित कई उच्च-स्तरीय विभागों को संभाला। इस बीच जैन दिल्ली के स्वास्थ्य और जेल मंत्री थे। उनके इस्तीफे के बाद आप की सबसे बड़ी चुनौती उसके प्रमुख नेताओं को अदालतों द्वारा सजा की संभावना हो सकती है। खासकर अगर जेल की अवधि दो साल या उससे अधिक है।

आज सुप्रीम कोर्ट से भी सिसोदिया को लगा झटका

आबकारी नीति मामले में मुश्किलों में फंसे मनीष सिसोदिया ने अपनी गिरफ्तारी को चुनौती देते हुए सुप्रीम कोर्ट का रुख किया था। सुप्रीम कोर्ट ने मंगलवार को सिसोदिया की याचिका खारिज कर दी। कोर्ट ने याचिका खारिज करते हुए कहा कि आपके लिए दिल्ली हाई कोर्ट में जमानत याचिका सहित विभिन्न कानूनी उपाय उपलब्ध हैं।

ये भी पढ़े: सुप्रीम कोर्ट में आना उचित नहीं, CJI ने कहा निचली अदालत से लें बेल

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *