Advertisement

गद्दारों को बाला साहेब के स्मारक पर आने का नैतिक अधिकार नहीं : संजय राउत

Share
Advertisement

Maharashtra: राज्य की राजनीति में लंबे वक्त से खींचतान जारी है। इस बीच, कल बालासाहेब ठाकरे को श्रद्धांजलि देने शिवाजी पार्क आए उद्धव और शिंदे गुट के नेता आपस में ही भिड़ गए थे। जिस पर शिवसेना (यूबीटी) के सांसद संजय राउत ने कहा कि गद्दारों और विश्वासघाती लोगों को बाला साहेब के स्मारक पर आने का नैतिक अधिकार नहीं है।

Advertisement

आज बालासाहेब की 11वीं पुण्यतिथि है

दरअसल, राज्य के सीएम एकनाथ शिंदे बालासाहेब ठाकरे को श्रद्धांजलि देने मुंबई के शिवाजी पार्क पहुंचे थे। यहां नारेबाजी के दौरान दोनों गुट के बीच झड़प हो गई थी। सनद रहे कि शुक्रवार को बालासाहेब की 11वीं पुण्यतिथि है।

शिवसेना को बदनाम करने का प्रयास किया

सांसद संजय राउत ने कहा कि जिन लोगों ने सत्ता के लिए बाला साहेब ठाकरे के सत्ता के आदर्शों के प्रति निष्ठाहीनता दिखाई है और शिवसेना को बदनाम करने का प्रयास किया है। इतना ही नहीं, भाजपा के साथ हाथ मिलाकर शिवसेना को खत्म करने के लिए शामिल हो गए हैं। उन लोगों को बाला साहेब के स्मारक पर आने का नैतिक अधिकार नहीं है।

लोगों ने इसका विरोध किया

इसलिए लोगों ने इसका विरोध किया। राउत ने आगे कहा कि यह ठीक है कि सीएम आए क्योंकि वह मुख्यमंत्री हैं। लेकिन जो लोग गद्दार और विश्वासघाती हैं, उन्हें यहां आने का अधिकार नहीं है।

माहौल तनावपूर्ण हो गया था

सीएम शिंदे के कार्यक्रम में कार्यकर्ताओं ने नारे लगाए थे कि शिवसेना उनकी पार्टी है। इसी बात से नाराज उद्धव गुट के कार्यकर्ताओं ने गद्दारों वापस जाओ के नारे लगाए, जिससे माहौल तनावपूर्ण हो गया था। हालांकि, मौके पर मौजूद पुलिस ने स्थिति को संभाल लिया था। मामले में सीएम शिंदे ने कहा था कि कानून व्यवस्था बनाए रखना हर किसी की जिम्मेदारी है। कानून व्यवस्था में कोई दिक्कत न हो इसलिए वह एक दिन पहले ही श्रद्धांजलि अर्पित करते हैं।

यह भी पढ़ें – हम शेरों की पार्टी के कार्यकर्ता हैं : स्मृति ईरानी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

अन्य खबरें