बैंक जमा राशि बीमा कार्यक्रम में PM मोदी का संबोधन, बोले- 1 लाख से ज़्यादा डिपॉजिटर्स को बरसों से फंसा पैसा वापस मिला

PM MODI

दिल्ली: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बैंक जमा राशि बीमा कार्यक्रम में हिस्सा लिया।

आज देश के लिए बैंकिंग सेक्टर के लिए और देश के करोड़ों बैंक अकाउंट होल्डर्स के लिए महत्वपूर्ण दिन: पीएम

बैंक जमा राशि बीमा कार्यक्रम में जमाकर्ताओं को सम्बोधित करते हुए पीएम मोदी ने कहा आज देश के लिए बैंकिंग सेक्टर के लिए और देश के करोड़ों बैंक अकाउंट होल्डर्स के लिए महत्वपूर्ण दिन है। दशकों से चली आ रही एक बड़ी समस्या का कैसे समाधान निकाला गया है,आज का दिन उसका साक्षी बन रहा।

3 लाख और डिपॉजिटर्स को बैकों में फंसा हुआ उनका पैसा मिलने वाला है: PM

5 लाख रुपये तक के समयबद्ध जमा राशि बीमा भुगतान की गारंटी समारोह में PM बोले बीते कुछ दिनों में एक लाख से ज़्यादा डिपॉजिटर्स को बरसों से फंसा हुआ उनका पैसा वापस मिला है। ये राशि करीब 1300 करोड़ रुपए से भी ज़्यादा है। इसके बाद भी 3 लाख और डिपॉजिटर्स को बैकों में फंसा हुआ उनका पैसा मिलने वाला है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की बड़ी बातें…

पीएम बोले हमारे देश में बैंक डिपॉजिटर्स के लिए इंश्योरेंस की व्यवस्था 60 के दशक में बनाई गई थी। पहले बैंक में जमा रकम सिर्फ 50,000 रुपये तक की राशि पर ही गारंटी थी, फिर इसे बढ़ाकर 1 लाख रुपये का दिया गया था। हमने इस राशि को एक लाख से बढ़ाकर 5 लाख रुपये कर दिया है।

उन्होनें कहा पहले जहां पैसा वापसी की कोई समयसीमा नहीं थी,अब हमारी सरकार ने इसे 90 दिन यानी 3 महीने के भीतर अनिवार्य किया है। यानि बैंक डूबने की स्थिति में भी 90 दिन के भीतर जमाकर्ताओं को उनका पैसा वापस मिल जाएगा।

आगे प्रधानमंत्री बोले बीते वर्षों में अनेक छोटे सरकारी बैंकों को बड़े बैंकों के साथ मर्ज करके उनकी कैपेसिटी, कैपेबिलिटी और ट्रांसपेरेंसी को हर प्रकार से सशक्त की गई है। जब RBI को-ऑपरेटिव बैंकों की निगरानी करेगा तो उससे भी इनके प्रति सामान्य जमाकर्ता का भरोसा और बढ़ेगा।

पीएम ने कहा कि आज भारत का सामान्य नागरिक कभी भी, कहीं भी, सातों दिन, 24 घंटे, छोटे से छोटा लेनदेन भी डिजिटली कर पा रहा है। कुछ साल पहले तक इस बारे में सोचना तो दूर, भारत के सामर्थ्य पर अविश्वास करने वाले लोग इस बात का मज़ाक उड़ाया करते थे।

Share This News

Leave a Reply

Your email address will not be published.