पार्थ चटर्जी ने अवैध गतिविधियों से कमाई मोटी रकम, अर्पिता मुखर्जी के घर में छिपाई : ED

पार्थ चटर्जी ने अपने नियंत्रण में कंपनियों -अनंत टेक्सफैब प्राइवेट लिमिटेड, सिम्बायोसिस मर्चेंट प्राइवेट लिमिटेड, व्यूमोर हाईराइज प्राइवेट लिमिटेड में डमी निदेशक स्थापित किए थे।

Share This News
पार्थ चटर्जी ED

प्रवर्तन निदेशालय (ED) ने कहा है कि शिक्षक भर्ती घोटाला मामले में आरोपी और पश्चिम बंगाल सरकार के पूर्व मंत्री पार्थ चटर्जी (Parth Chatterjee) ने अवैध गतिविधियों के जरिए भारी मात्रा में कैश हासिल की।

ईडी ने सोमवार को स्कूल सेवा आयोग (एसएससी) भर्ती घोटाले में पार्थ चटर्जी और उनकी कथित सहयोगी अर्पिता मुखर्जी के खिलाफ अपना पहला आरोप पत्र दायर किया।

ईडी चार्जशीट में कहा गया है कि एसएससी घोटाले में पैसा बनाने के अलावा, पार्थ चटर्जी ने अन्य अवैध गतिविधियों और घोटालों के माध्यम से भी बहुत पैसा कमाया। उसने इस पैसे को अर्पिता मुखर्जी के नाम से परिसर में छिपा दिया था, जिसमें से 49.8 करोड़ रुपये कोलकाता के दो परिसरों से बरामद कर जब्त किए गए थे।

अर्पिता मुखर्जी ने ईडी के सामने कबूल किया था कि उनके परिसर से बरामद नकदी पार्थ चटर्जी की है।

ईडी का यह भी आरोप है कि उनके पास इस बात के निर्विवाद सबूत हैं कि अर्पिता मुखर्जी के आवास से बरामद करीब 50 करोड़ रुपये की नकदी पार्थ चटर्जी की है।

ईडी की चार्जशीट में कहा गया है कि पार्थ चटर्जी ने वंचित लोगों का शोषण किया और उनकी सहमति या जानकारी के बिना उन्हें शैल कंपनियों का डमी निदेशक बना दिया।

चार्जशीट में कहा गया है, “उक्त कंपनियां पैसे के बदले नौकरी बेचने की आपराधिक गतिविधि से प्राप्त दागी धन को वैध बनाने के एकमात्र उद्देश्य से शुरू की गई थीं।”

पार्थ चटर्जी द्वारा नियंत्रित एक कंपनी अनंत टेक्सफैब को उसी पते पर पंजीकृत किया गया था, जहां से ईडी ने 27.90 करोड़ रुपये नकद और 4.31 करोड़ रुपये का सोना बरामद किया था।

पार्थ चटर्जी ने अपने नियंत्रण में कंपनियों -अनंत टेक्सफैब प्राइवेट लिमिटेड, सिम्बायोसिस मर्चेंट प्राइवेट लिमिटेड, व्यूमोर हाईराइज प्राइवेट लिमिटेड में डमी निदेशक स्थापित किए थे।

अर्पिता मुखर्जी से जुड़ी फर्में – सेंट्री इंजीनियरिंग प्राइवेट लिमिटेड और एचे एंटरटेनमेंट प्राइवेट लिमिटेड – का उपयोग कंपनियों के नाम पर रखे गए खातों में नकदी जमा करने और बाद में कंपनियों के नाम पर अचल संपत्ति खरीदने के लिए धन के शोधन के उद्देश्य से किया गया था।

ईडी ने उन लोगों के बयान भी दर्ज किए हैं जिन्होंने नौकरी पाने के लिए पैसे दिए लेकिन उनमें से कुछ को पैसे देने के बाद भी नौकरी नहीं दी गई।

Share This News

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *